बुध ग्रह के बारे में रोचक तथ्य | 10 Amazing Facts about Mercury planet in hindi

आज के इस लेख में हम (Amazing facts about Mercury planet in hindi) बुध ग्रह के रोचक तथ्य के बारे में बात करेंगे। बुध ग्रह को mercury के नाम से भी जाना जाता है। ये नाम एक रोमन देवता का है तो उन्ही के नाम पर इसका नाम mercury पड़ा है। ये ग्रह सबसे छोटा और सूर्य के सबसे नजदीक है। इसलिए ये सबसे गर्म ग्रह मे दूसरे स्थान पर है। जबकि सबसे गर्म ग्रह शुक्र ग्रह है। बुध ग्रह का आकार हमारे चन्द्रमा से थोड़ा ही बड़ा है। इस ग्रह का वायुमंडल नहीं है यह ग्रह धूमकेतुओ को अपनी कक्षा में आने से नहीं रोक पाता है जिस कारण से इसपर बड़े-बड़े गड्ढे बन गए है।

वैज्ञानिकों के द्वारा इस ग्रह पर कई सारे मिशन भेजे गए जिसके चलते अनेक रोचक तथ्य के बारे में हम सभी को पता लगा है। तो आइए आप सबको भी बुध ग्रह से जुड़ी हर जानकारी  देते हैं।

बुध ग्रह के बारे में रोचक जानकारी (Interesting facts about mercury planet in hindi)

1. Mercury Planet को सबसे पहले Timocharis नामक एक scientist से 200 BC में दर्ज किया था। उस समय इस ग्रह को एक तारा माना जाता था और ऐसा भी माना जाता था कि ये ग्रह पृथ्वी की परिक्रमा करता है। लेकिन ये बात सन 1943 में कोपर्निकस नामक scientist ने clear की थी कि mercury कोई तारा नहीं अपितु ग्रह है और चक्कर नहीं लगा रहा है। Mercury को 1960 में रेडियो सिग्नल के मदद से पूरी तरह से देखा और ज्यादा जानकारी प्राप्त करी थी फिर गैलीलियो नामक scientist ने पहली बार telescope की मदद से बुध ग्रह को देखा था।

2. बुध ग्रह की बात की जाए तो इसका चुंबकीय क्षेत्र पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र का मात्रा 1 percent है। Mercury planet की सूर्य से दूरी की बात की जाए तो ये करीब 5 करोड़ 89 लाख km की दूरी पर है और पृथ्वी से इसकी दूरी 14 करोड़ 93 लाख किलोमीटर है। इसके अलावा आपको ये जानकर हैरानी होगी कि पृथ्वी का एक दिन mercury के 59 दिन के बराबर होता है। Mercury planet पर gravitational force बहुत ही कम है।

3. वैज्ञानिकों कें द्वारा ये भी स्पष्ट किया गया है कि mercury की सतह पृथ्वी के चंद्रमा के जैसी है और इसका व्यास (Average diameter) 4880 किलोमीटर है जो इसे पूरे सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह बनाता है। ये ग्रह आकार में लगभग पृथ्वी के चंद्रमा जितना बड़ा है। यह शनि के चन्द्रमा टाइटन से भी छोटा है।

4. Mercury planet पृथ्वी की ही तरह terrestrial व rocky (चट्टानी) ग्रह है। बुध ग्रह की धरती पर उबड़-खाबड़ है और बड़े बड़े गड्ढे भी है। ये गड्ढे कई किलोमीटर लंबे और 3 से 4 किलोमीटर गहरे हैं। ये गड्ढे बेसिन नाम से जाने जाते है। इसके अलावा इस ग्रह पर सबसे बड़ा गड्ढा 1974 में मारिनर 10 की जांच के द्वारा मिला था। जिसका आकार 1550 किलोमीटर व्यास है। इसे कैलोरीस बेसिन के नाम से जानते है।

5. यदि भविष्य में कोई अंतरिक्ष यात्री बुध ग्रह की सतह पर पहुंचता है तो उसे सूर्य देंखने पर यह पृथ्वी के सूर्य के मुकाबले तीन गुना बड़ा दिखाई देगा। यहां पर सूर्य की रोशनी बुध ग्रह की सतह पर मात्र 3.2 सेकेंड में पहुंच जाएगी और यह 7 गुना तेज होगी पृथ्वी के मुकाबले। इसका मुख्य कारण कि एक तो यह सूर्य के सबसे निकट है और दूसरा यहां वायुमंडल का रक्षा कवच भी नहीं है।

6. बुध ग्रह सौरमंडल के सभी ग्रहों में छोटा है मगर चंद्रमा से बड़ा है। पृथ्वी पर खड़े होकर बुध ग्रह को हम अपने नेत्रों से भी देख सकते हैं। बुध ग्रह पर कोई चंद्रमा नहीं है।

7. पृथ्वी से बुध ग्रह करीब 26 गुना छोटा है। वैज्ञानिकों का ये मानना है कि बुध ग्रह का केंद्र भी पृथ्वी के केंद्र की भांति ही लोहे (iron) से बना है। इसका लौह केंद्र पृथ्वी के केंद्र से भी अधिक बड़ा होने का अनुमान है। Mercury planet को hottest planet के नाम से भी जाना जाता है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि बुध ग्रह की सतह पृथ्वी की सतह से 3 गुना ज्यादा मोटी है। आपकी जानकारी के लिए बता दे अभी इस ग्रह पर केवल 3 अंतरिक्ष यान भेजे गए हैं।

8. बुध ग्रह पर किसी भी इंसान का वजन कम रहता है। अगर किसी का वजन पृथ्वी पर 80 kg है तो उसका वजन बुध ग्रह पर 30.4 kg ही रह जायेगा। इसके अलावा जब बुध ग्रह सूर्य के करीब होता है तब बुध ग्रह पर खड़े होकर सूर्य को देखने पर यह पृथ्वी के मुकाबले तीन गुना ज्यादा बड़ा दिखाई पड़ेगा।

9. बुध ग्रह को सूर्य का एक चक्कर पूरा करने में 88 दिन लगते है। जोकि किसी भी ग्रह से सबसे कम है। पृथ्वी का 1 साल बुध ग्रह के 88 दिन के बराबर है और ये पूरे सौरमंडल में सबसे तेज़ चक्कर लगाने वाला ग्रह है। बुध ग्रह 1 लाख 80 किमी/घंटा की गति से सूर्य की परिक्रमा करता है। सबसे रोचक बात यह है की यह परिक्रमा अंडाकार पथ पर करता है। एक सेकंड में यह 47.362 किमी की परिक्रमा कर लेता है।

10. बुध ग्रह के तापमान की बात करें तो दिन और रात दोनों मे बड़ा अंतर देखने को मिला है। इस ग्रह पर दिन के समय का तापमान 450°C तक पहुंचता है। परंतु रात में 0 से -176°C तक पहुंचता है। इसके घनत्व की बात की जाए तो पृथ्वी के बाद बुध ग्रह ही सबसे ज्यादा घनत्व वाला ग्रह है।

11. बुध ग्रह के पर्यावरण की बात की जाए पर्यावरण स्थिर नहीं रहता है मतलब कि अस्थिर (unstable) रहता है। इसके अलावा इसका कोई वायुमंडल नहीं है। इस ग्रह के वायुमंडल की कोई परत भी नहीं है जिसके कारण कोई भी पदार्थ इस ग्रह के समीप आते है तो गरम होकर ही नष्ट हो जाते है। इस ग्रह पर नाइट्रोजन, हीलियम जैसी गैसों की मात्रा अधिक है।

12. बुध ग्रह सूर्योदय से ठीक पहले और सूर्यास्त के ठीक बाद आकाश में टिमटिमाता दिखाई देता है। इस कारण उसे प्रातःकाल और संध्या का तारा भी कहा जाता है। आपकी जानकारी के लिए आपको ये भी बता दें कि बुध ग्रह का बाहरी आवरण केवल 400 किलोमीटर मोटा है।

बुध ग्रह की महत्वपूर्ण जानकारी (Basic Information of Mercury Planet)

बुध ग्रह का द्रव्यमान (mass)3285 x 10^23kg
बुध ग्रह की घूर्णन गति47.362 किलोमीटर/ सेकंड
गुरुत्वाकर्षण (gravity)3.7 m/s2
घनत्व (Density)5.424 g/cm3
बुध ग्रह का व्यास4,876 किलोमीटर, 3,030 मील

बुध ग्रह पर भेजे गए अंतरिक्ष यान।

बुध ग्रह पर अबतक तीन स्पेस अंतरिक्ष यान भेजे गए है। जिनके नाम है (1) मेरिनर-10 (2) मैसेंजर प्रोब (3) एरियन-5
मेरिनर (Mariner 10) : बुध ग्रह पर भेजा गया सबसें पहला अंतरिक्ष यान मेरियन था। 3 नंवबर 1973 में भेजा गया था। इस यान ने बुध ग्रह के बारे में बहुत ही चौकाने वाले तथ्या भेजे थे। 1974 से 1975 के दौरान यह यान बुध ग्रह से सबसे नजदीक से गुजरा था और इसकी 2800 से ज्यादा फोटो खींची थी।
मैसेंजर प्रोब (Masenger Probe): इनमें से अबतक मैसेंजर प्रोब अंतरिक्ष यान ने बुध ग्रह से जुड़ी बहुत सी रोचक जानकारियां साझा की है जिसमें बुध ग्रह की सरंचना वातावरण और चुम्बकिय क्षेत्र शामिल है। इसका मिशन 2012 में पूर्ण हो गया था लेकिन अतिरिक्त ईंधन होने की वजह से इसका समय 2 वर्ष बढ़ा दिया गया इस यान ने बुध ग्रह से सम्बंधित सभी जानकारी विस्तार से बताई।
एरियन-5 (Ariane 5) : बुध ग्रह पर एरियन-5 अंतरिक्ष यान 2018 में भेजा गया जिसे बहुत से देशों की स्पेस एजेंसियों द्वारा (यूरोप की स्पेस एजेंसी ESA और जापान की स्पेस एजेंसी JAXA) के द्वारा चलाया गया सयुक्त स्पेस मिशन है इसके बुध ग्रह के ओर्बिट सन् 2025 में पहुंचने की उम्मीद है।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने आपको (Amazing facts about Mercury planet in hindi) बुध ग्रह के ऊपर रोचक तथ्य के बारे में जानकारी दी है। आशा करते है आपको हमारा ये लेख अच्छा लगा होगा अगर आपको ये लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने मित्रो के साथ अवश्य शेयर करे ताकि उनको भी इससे संबंधित जानकारी मिल सके।

Leave a Comment