Advertisements

प्रिंस चार्ल्स का जीवन परिचय | Prince Charles Biography in Hindi

ब्रिटेन के नए राजा प्रिंस चार्ल्स का जीवन परिचय, जीवनी (Prince Charles age, net worth, wife, Prince Charles Biography in Hindi)

यूनाइटेड किंगडम ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की मृत्यु के बाद प्रिंस चार्ल्स अब ब्रिटेन के नए राजा बन गए हैं। 2 जून 1953 को महारानी एलिजाबेथ II के राज्याभिषेक के साथ ही प्रिंस चार्ल्स को यूनाइटेड किंगडम का अगला उत्तराधिकारी घोषित किया गया था।

प्रिंस चार्ल्स अपनी माता एलिजाबेथ द्वितीय के साथ मिलकर राजशाही सत्ता संभाल रहे थे। प्रिंस चार्ल्स को ड्यूक ऑफ कार्निवाल के नाम से भी जाना जाता है। 8 सितंबर 2022 को माता के निधन के बाद इन्होंने ब्रिटेन के राजशाही सत्ता की कमान संभाली।

Advertisements

प्रिंस चार्ल्स के जीवन और उत्तराधिकार से कई रोचक प्रसंग जुड़े हुए हैं। आज इस आर्टिकल के जरिए हम आपको प्रिंस चार्ल्स के जीवन परिचय के बारे में बताएं।

Prince-Charles-biography-in-hindi

प्रिंस चार्ल्स का प्रारम्भिक जीवन –

प्रिंस चार्ल्स 14 नवंबर 1948 को ब्रिटेन के विंडसर राजघराने में पैदा हुए थे। इनका जन्म बकिंघम पैलेस में हुआ था। इनका पूरा नाम चार्ल्स फिलिप आर्थर जॉर्ज है। इनकी माता का नाम एलिजाबेथ अलेक्जेंडर मैरी था जिन्हे एलिजाबेथ द्वितीय की उपाधि मिली थी। इनकी माता एलिजाबेथ द्वितीय ब्रिटेन के महारानी थी जिनकी मृत्यु के बाद प्रिंस चार्ल्स अब ब्रिटेन के नए राजा बने हैं। इनके पिता का नाम प्रिंस फिलिप था।

इनके नाना का नाम जॉर्ज षष्ठम (VI) था जो इनकी मां से पहले यूनाइटेड किंगडम के राजा थे। साल 1952 में उनकी मृत्यु के पश्चात उनकी मां ब्रिटेन की महारानी बनी थी और 2 जून 1953 को उनका राज्याभिषेक किया गया था इसी दौरान प्रिंस चार्ल्स को अगला उत्तराधिकारी बनाया गया।

प्रिंस चार्ल्स-III का जीवन परिचय (Prince Charles Biography in hindi )

पूरा नाम (Real Name)प्रिंस चार्ल्स
जन्म (Date of Birth)14 नवंबर 1948
जन्म स्थान (Place of Birth)बर्किघम पैलेस , लंदन (UK)
नागरिकता (Nationality)ब्रिटेन
आयु (Age)76 वर्ष (2022)
शिक्षा (Qualification)कला में स्नातक की डिग्री
कैंब्रिज विश्वविद्यालय से ही परास्नातक
प्रसिद्धीब्रिटेन के नए राजा
नेटवर्थ (Net Worth)$500 मिलियन डॉलर
पिता का नामप्रिंस फिलिप, ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग
माता का नाममहारानी एलिजाबेथ II
पत्नी का नामडायना स्पेंसर (1981-1996)
पार्कर बाउल्स (2005)
बच्चेंप्रिंस विलियम, प्रिंस हैरी

प्रिंस चार्ल्स की शिक्षा –

प्रिंस चार्ल्स को अपनी प्रारंभिक शिक्षा वेस्ट लंदन के हिल हाउस स्कूल से मिली। ब्रिटेन के राजघराने में राजकुमारों के लिए घर पर ही शिक्षा देने की व्यवस्था की गई थी। लेकिन प्रिंस चार्ल्स ने इन परंपराओं को तोड़कर 1967 में कैंब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज में दाखिला ले लिया। प्रिंस चार्ल्स ने मानव विज्ञान, पुरातत्व और इतिहास से स्नातक की डिग्री हासिल की। प्रिंस चार्ल्स राजघराने के तीसरे ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल की।

ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के बाद इन्होंने कैंब्रिज से ही कला में परास्नातक किया। 2 अगस्त 1975 को इन कैंब्रिज में कला के परास्नातक डिग्री से सम्मानित किया गया।

प्रिंस चार्ल्स का विवाह –

प्रिंस चार्ल्स का विवाह उनकी पत्नी डायना से हुआ था। प्रिंस चार्ल्स उन्हें काफी पसंद करते थे। साल 1981 में प्रिंस चार्ल्स ने डायना के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा जिस पर वह मान गई 29 जुलाई ने सेंट पॉल कैथेड्रल में शादी कर ली।

प्रिंस चार्ल्स और उनकी पत्नी डायना ने विवाह तो कर लिया लेकिन आगे चलकर इनका रिश्ता कुछ ठीक नहीं रहा। रिश्ते में चल रही अनबन के कारण उसने अपनी पत्नी को तलाक दे दिया था। साल 1996 में तलाक के बाद प्रिंस चार्ल्स के दोनों बेटे अपनी मां के साथ रहने लगे थे। लेकिन साल 1997 में एक कार एक्सीडेंट में चार्ल्स की पत्नी डायना की मौत हो गई। प्रिंस चार्ल्स और उनकी पत्नी के दो बेटे हैं जो डायना की मौत के बाद प्रिंस चार्ल्स के साथ रहने लगे।

उनके बड़े बेटे का नाम विलियम और छोटे बेटे का नाम हैरी है। इनके बड़े बेटे विलियम को ड्यूक ऑफ कैंब्रिज बनाया गया था। प्रिंस चार्ल्स के राजा बनने के बाद उनके बड़े बेटे प्रिंस विलियम वेल्स के नए राजकुमार बन गए हैं जो राजगद्दी के अगले उत्तराधिकारी होंगे।

प्रिंस चार्ल्स की संपत्ति –

प्रिंस चार्ल्स की कुल संपत्ति 500 मिलियन डालर है। इनकी माता एलिजाबेथ II की मौत के पूर्व यह पूरी संपत्ति उन्हीं की थी लेकिन 8 सितंबर 2022 को उनकी मौत के बाद संपत्ति के उत्तराधिकारी प्रिंस चार्ल्स बन गए हैं।

8 सितंबर 2022 को चार्ल्स ने संभाली गद्दी –

8 सितंबर 2022 को 96 वर्ष की आयु में यूनाइटेड किंगडम की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की मौत हो गई। नियमानुसार महारानी एलिजाबेथ की मृत्यु के तुरंत बाद चार्ल्स यूनाइटेड किंगडम के नए राजा बन गए। यूनाइटेड किंगडम की राजशाही गद्दी संभालने के साथ-साथ वह राष्ट्रमंडल के 15 अन्य देशों के भी प्रमुख बन गए है।

इनकी माता महारानी एलिजाबेथ को उत्तराधिकार मिलने की घटना काफी रोचक है। दरअसल इनके नाना जॉर्ज षष्ठम राज सिंहासन के असली उत्तराधिकारी नहीं थे बल्कि वह अपने पिता जॉर्ज पंचम के सबसे छोटे लड़के थे।

नियमानुसार जॉर्ज पंचम के बड़े बेटे एडवर्ड अष्टम को राज सिंहासन का उत्तराधिकार मिला। लेकिन कुछ समय बाद एडवर्ड अष्टम ने खुद को राज सिंहासन पद से हटा लिया और अपने छोटे भाई और प्रिंस चार्ल्स के नाना जॉर्ज VI को राज सिंहासन की कमान थमा दी। जब इनके नाना ब्रिटेन के राजा बने तो इनकी मां एलिजाबेथ द्वितीय को राज सिंहासन का नया उत्तराधिकारी बनाया गया। साल 1952 में इनके नाना जॉर्ज षष्ठम की मृत्यु हो गई जिसके बाद इनकी मां ब्रिटेन और राष्ट्रमंडल देशों की महारानी बनीं।

हालांकि भले ही 1952 में पिता की मृत्यु के बाद इनकी माता ने राज सिंहासन की कमान संभाल ली थी लेकिन 2 जून 1953 को उनका राज्याभिषेक किया गया और इसी राज्य अभिषेक के साथ प्रिंस चार्ल्स नए उत्तराधिकारी बने।

दोस्तों उम्मीद करते हैं कि आपको प्रिंस चार्ल्स के जीवन परिचय से जुड़ा हुआ यह आर्टिकल बेहद पसंद आया होगा।

Leave a Comment