जेम्स वेब टेलिस्कोप आइये जाने इसके बारे में कुछ खास बातें | Interesting Facts about James Webb Telescope hindi

अंतरिक्ष में भेजी गई अब की सबसे बड़ी दूरबीन जेम्स वेब टेलिस्कोप के बारे में रोचक तथ्य , Interesting Facts about James Webb Telescope hindi, James Webb Space Telescope launch date, Hubble space Telescope launch date

आज के समय हमारा अंतरिक्ष जिस प्रकार से व्यवहार कर रहा है उसे समझने के लिए हमने कई दशकों से Telescope की मदद की है। और अन्य ही कई ऐसी Technology का इस्तेमाल किया है। जिसकी मदद से हम प्रक्रियाओं को समझ सके तथा उन्हें अपने फायदे के तौर पर इस्तेमाल कर सकें।

24 अप्रैल 1990 को Hubble Telescope launch किया गया था। तथा आज के समय तक Hubble Telescope ने एक करोड़ से ज्यादा तस्वीरें हमें अंतरिक्ष से पृथ्वी तक पहुंचाई है, जिसमें Hubble Telescope ने हमें अंतरिक्ष को समझने में थोड़ी बहुत मदद करी है, लेकिन अंतरिक्ष मात्र एक छोटे से Telescope के द्वारा नहीं समझा जा सकता है।

इसके लिए एक बहुत वृहद् विज्ञान और बहुत बड़ी Technology की आवश्यकता है। इसीलिए कई सालों से pending रहा James Webb Space Telescope का Project Launch नहीं किया गया था, इस टेलीस्कॉप को यूरोपियन स्पेस ऐजेंसी, और कानिडियन स्पेस ऐजेंसी और नासा के सयुक्त प्रयासों से सालों की मेहनत से विकसित किया गया है।

इसे एरियन 5 रॉकेट (Ariane-5 Rocket) द्वारा फ्रेंस गुयाना से 25 दिसंबर को 12.20 pm GMT बजे नासा (NASA) द्वारा लांच (7.20 am EST) किया गया। सच में यह एक ऐतिहासिक पल होगा जब यह अबतक की सबसे बड़ी अंतरिक्ष दूरबीन को लांच किया गया है। James Webb Space Telescope अपने आप में ही बहुत ही ज्यादा महान है और इसके हजारों उपयोग है।

आज के लेख में हम आपको जेम्स वेब टेलिस्कोप से संबंधित कुछ ऐसे ही विचित्र रोचक तथ्यों (Interesting facts about James Webb Space Telescope hindi) को बताएंगे, जिन्हें जानकर आप चौक जायेंगे। तथा अंत में हम आपको Hubble Telescope और James Webb Space Telescope इस संबंध में कुछ अंतर भी बताएंगे, जिसकी सहायता से आप इन दोनों का अंतर भली-भांति समझ पाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं।

James Webb Space Telescope interesting Facts hindi

जेम्स वेब टेलिस्कोप के बारे में पूरी जानकारी व रोचक तथ्य (Interesting Facts about James Webb Telescope hindi)

James Webb Space Telescope अपने आप में एक बहुत बड़ा Telescope है तथा यह Space Telescope Hubble Space Telescope का replacement नहीं है बल्कि उसका उत्तराधिकारी है। इसके कुछ रोचक तथ्य इस प्रकार हैं-

  1. James Webb Space Telescope अब तक के Space Telescope के इतिहास का सबसे उन्नत और सटीक जानकारी देने वाला Telescope है।
  2. James Webb Space Telescope को दो साल पहले ही launch किया जाना था लेकिन दोनों बार किसी न किसी तकनीकि कमी की वजह से उसका launch टाल दिया गया।
  3. James Webb Space Telescope किसी साधारण Telescope की तरह नहीं होगा जो कि किसी planet या फिर वहां के layer की तस्वीरें हमें भेजेगा बल्कि यह किसी भी ग्रह की बनने की प्रक्रिया को समझने में हमें मदद करेगा तथा उसे ग्रह के बनने से पहले की तस्वीरें भी हमें भेजेगा।
  4. एक तरीके से James Webb Space Telescope हमें ब्रह्मांड के बनने से पहले की तस्वीरें हमें भेजेगा।
  5. James Webb Space Telescope की सहायता से हम लाखों प्रकाश वर्ष दूर स्थित एक ग्रह की तस्वीरें भी ले पाएंगे। उसके पूरे इतिहास को भी समझ पाएंगे। तथा उसके बनने की प्रक्रिया भी हम समझ पाएंगे। इसी के साथ में वह ग्रह बनने से पहले कैसा था उसको समझने में भी हमें दिक्कत नहीं होगी।
  6. ब्रह्मांड को लेकर कहा जाता है कि इसका निर्माण Big-Bang से हुआ है तो James Webb Space Telescope की सहायता से हमें उस ब्रह्मांड को बनने की प्रक्रिया को live देखने का मौका मिलेगा।
  7. James Webb Space Telescope Hubble Telescope का replacement नहीं है बल्कि इसका उत्तराधिकारी है और यह इसलिए क्योंकि जो काम Hubble Telescope करता था उससे बेहतरीन Technology की मदद से James Webb Space Telescope अब हर काम करेगा तथा उससे भी बेहतरीन काम करेगा।
  8. James Webb Space Telescope की मदद से हम ब्रह्मांड में स्थित विभिन्न प्रकार के ग्रहों तारों आकाशगंगा को बनने की और उनके मिटने की प्रतियों को समझने में सफलता हासिल कर पाएंगे।
  9. जेम्स वेब टेलिस्कोप के mirror के ऊपर  एक golf ball size जितना सोना लगा हुआ है यानी कि सोने की परत चढ़ी हुई है। जिसकी मदद से वह  Infrared Light की मदद से आ रही Electromagnetic Spectrum  को प्रोसेस करके और अधिक स्पष्टता के साथ में किसी भी ग्रह की  वास्तविकता को दिखाने में मदद करेगा।
  10. इसके Mirror के ऊपर 24 कैरेट सोने की परत चढ़ी हुई है।
  11. James Webb Space Telescope को किसी भी mission के दौरान  खराब हो जाने पर ठीक नहीं किया जा सकेगा यह इसका एक drawback है लेकिन इसके ऊपर भी सुधार किया जा रहा है।
  12. यह आने वाले 20 वर्षों के लिए James Webb Space Telescope को सर्विस में लाया गया है।
  13. James Webb Space Telescope की स्पष्टता इतनी अधिक है कि वह 24 मील दूर  रखे हुए एक सिक्के को आसानी से और पूरी स्पष्टता के साथ में देख सकता है।
  14. बस इतना ही नहीं बल्कि यह (James Webb Space Telescope) 340 मील दूर रखे हुए किसी भी फुटबॉल को आसानी से देख सकता है और उसका स्पष्टीकरण भी आसानी से कर सकता है।
  15. हमारे सौरमंडल के बाहर स्थित कई ऐसे ग्रह जो कि किसी अन्य तारे के चारों ओर चक्कर लगाता है, या लगाते हैं। उनके ऊपर जीवन और पानी की खोज करने में भी यह Telescope हमारी मदद करेगा।
  16. आपको यह जानकर के बहुत ही आश्चर्य होगा कि इस James Webb Space Telescope की उपयोगिता पहली लाइट को ढूंढने में भी होगी जो कि इस यूनिवर्स में पहली बार क्रिएट करी गई थी।
  17. पूरे ब्रह्मांड में  वे सारी चीजें  जो कि पहली बार उत्पन्न हुई थी यह पहली बार create करी गई थी  उन सभी के बारे में  James Webb Space Telescope की सहायता से हमें जानकारी प्राप्त होगी।
  18. जब 25 दिसंबर 2021 को James Webb Space Telescope को launch किया गया था तब इसे एक रॉकेट में fold करके रख दिया गया था और fold करे हुए ही इसे launch किया गया है लेकिन जब यह अंतरिक्ष में जाएगा तब यह अपने  पंख  फैला देगा।
  19. James Webb Space Telescope का वजन मात्र 6.5 टन का है, जबकि इसके पहले Hubble Telescope का वजन 11 टन का था।
  20. James Webb Space Telescope का आकार एक टेनिस कोर्ट से भी बहुत ज्यादा बड़ा है।
  21. इस Telescope की ऊंचाई तकरीबन 3 मंजिला बिल्डिंग से भी ज्यादा है।
  22. इसमें केवल और केवल Telescope का Diameter ही 6.5 meter का है, जबकि Hubble Telescope में Telescope का Diameter 2.4 meter का था।
  23. इस महान Telescope को बनाने के लिए इसके mirror के लिए बेरिलियम का इस्तेमाल किया गया था। बेरिलियम एक ऐसा तत्व है, जो कि कांच की तरह होता है। लेकिन इस पर स्क्रैच लाना बड़ा ही मुश्किल होता है। एक तरीके से असंभव होता है। और जब अंतरिक्ष में इस Space Telescope से कोई पत्थर टकराएगा, तब इसके mirror के ऊपर किसी भी प्रकार की खरोच नहीं आएगी।
  24. बेरिलियम एक ऐसा तत्व है जो कि 230 डिग्री सेंटीग्रेड पर भी अपनी अवस्था नहीं बदलता है। यानी कि वह ना तो टूटता है, नहीं बिखरता है, और ना ही पिघलता है। तो यदि अंतरिक्ष में किसी भी परिस्थिति में इस Telescope के पास में 230 डिग्री सेंटीग्रेड का तापमान होगा तो भी इसके कांच पर कोई असर नहीं पड़ेगा। और हमारा Telescope पूर्ण रूप से सुरक्षित होगा।
  25. इस Telescope में एक Infrared Camera भी Install किया गया है ब्रह्मांड का सबसे पुराना planet ढूंढने में हमारी मदद करेगा।
  26. न केवल किसी पुराने ग्रह को ढूंढने में बल्कि उसके बनने की प्रक्रिया को भी साक्षात देखने में  भी यह Telescope हमारी मदद करेगा।
  27. Telescope के लिए Fine Guide Sensor का इस्तेमाल किया गया है जिसकी मदद से हमें मिलने वाली तस्वीरों में किसी भी प्रकार की कोई खराबी या त्रुटी नहीं होगी और हमें जिस प्रकार की और जिस क्वालिटी की तस्वीरें चाहिए होंगी, उसी प्रकार की तस्वीरें हम इस Telescope की सहायता से ही universe की ले सकेंगे।

आइये जाने – सूर्य तक पहुंचने वाला पहला अंतरिक्ष यान पार्कर सोलर प्रोब के बारे में

हबल टेलिस्कोप और जेम्स वेब टेलिस्कोप में अंतर (Hubble Telescope v/s James Webb Space Telescope hindi )

Hubble Telescope vs James Webb Space Telescope में बहुत बड़ा अंतर है, जैसे कि functioning के हिसाब से यदि  एक तलवार है, तो James Webb Space Telescope  पूरा तोपखाना है

हबल स्पेस टेलीस्कॉप (Hubble Telescope)जेम्स वेब टेलिस्कोप (James Webb Space Telescope)
हबल स्पेस टेलीस्कॉप (Hubble Telescope) की सहायता से अंतरिक्ष में विभिन्न प्रकार के ग्रहों की तस्वीरें तथा करीब 100 किलोमीटर दूर स्थित ग्रहों की तस्वीरें भी ली जा सकती थी। जेम्स वेब टेलिस्कोप (James Webb Space Telescope) की सहायता से न केवल ग्रहों की तारों की और  एक्सोप्लेनेट की तस्वीरें ले सकते हैं बल्कि ग्रहों के बनने की प्रक्रिया को भी देख सकते हैं और समझ सकते हैं।
Hubble का कुल वजन 11 टन का था।इस Telescope का कुल वजन 6।4 टन का है।
इसका कुल व्यास 2।4 मीटर का थाइसका कुल व्यास 6।5 मीटर का है।
Hubble Telescope पृथ्वी से 570 किलोमीटर की दूरी पर था तथा पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाता था।यह पृथ्वी से तकरीबन 1।5 मिलियन किलोमीटर की दूरी पर रहेगा और वह सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाएगा।
इसको 24 अप्रैल 1990 को लांच किया गया था।जेम्स वेब टेलिस्कोप को 25 दिसंबर 2021 को लांच किया गया है।
यह टेलीस्कॉप 0।8 से लेकर के 2।5 micron के Infrared Radiation को Observe करता था इसकी मदद से 0।6 से लेकर के 28 micron तक के infrared radiation को Observe किया जाएगा ।
इसकी सहायता से नई पुरानी सभी गैलेक्सिस को देखा जा सकता था ।इसकी सहायता से जन्म लेने वाली गैलेक्सी को भी देखा जाएगा और उनके लिगसीज के जन्म की प्रक्रिया को भी देखा जाएगा और जो गैलेक्सी से जन्म ले चुकी हैं उनके बनने की प्रक्रिया भी देखी जा सकेगी।
इसका नामांतरण अमेरिकन Astronomer Edwin Hubble के नाम पर किया गया थाइसका नामांतरण नासा के Administrator James Webb के नाम से किया गया था।

FAQ

प्रश्न- जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप इस वक्त कहां पर है?

उत्तर- जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप पृथ्वी से लॉन्च हो गया है और इस समय स्पेस में पहुंच चुका है।

प्रश्न- जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप कब लॉन्च हुआ था?

उत्तर- जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप 25 दिसंबर 2021 के दिन लांच हो गया था।

प्रश्न- नासा ने किस स्पेस एजेंसी के साथ मिलकर जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप को लॉन्च किया था?

उत्तर- नासा ने Europe Space Agency (ESA) और Canadian Space Agency (CSA) के साथ मिलकर जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप बनाया है जो की एक बहुत ही चुनौतिपूर्ण कार्य किया इस टेलिस्कॉप का सफलतापूर्णक लांच किया गया।

प्रश्न- क्या जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप Big Bang को देख सकता है?

उत्तर- जी हां जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप को इस तरह से modify किया गया है कि वे फ्यूचर में big bang को जरूर देख सकता है।

Leave a Comment