Advertisements

फादर्स डे क्यों मनाया जाता है? महत्व, इतिहास व अनमोल वचन, कविता | Important facts, history of Father’s Day in hindi

आइये जानें फादर्स डे कब और क्यों मनाया जाता है? इस दिन की खास बातें, प्रेरणादायक अनमोल वचन, कविता (Father’s Day in hindi, quotes, facts history, how to celebrate, kavita, anmole vachan )

आज के समय में भारत में भी कई पश्चिमी संस्कृति के त्योहार मनाए जाते हैं जैसे – मदर्स डे, सिस्टर्स डे, ब्रदर्स डे इत्यादि। इन्हीं संस्कृति में से एक त्योहार फादर्स डे (Father’s Day in hindi) का भी है। फादर्स डे समाज में पिता के योगदान का सम्मान करने के लिए मनाया जाता है। यह दिन पिता को समर्पित होता है। भारत देश में इसे पितृ दिवस कहा जाता है।

इस साल 2022 में भी फादर्स डे आने वाला है इसलिए हम आज का यह लेख फादर्स डे पर समर्पित करते हैं। आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको फादर्स डे से संबंधित सभी जानकारीयाँ देने वाले हैं जैसे- Father’s Day क्यों मनाया जाता है और कब मनाया जाता है। पितृ दिवस या फादर्स डे 2022 महत्व, कैसे मनाये और इतिहास? इत्यादि। चलिए फादर्स डे के बारे में विस्तार से जानते हैं।

Advertisements

फादर्स डे कब और क्यों मनाया जाता है? (When we celebrate father’s day in hindi)

लगभग सभी देशों में फादर्स डे जून महीने के तीसरे रविवार को मनाया जाता है। इस साल 2022 में फादर्स डे 19 जून, 2022 को मनाया जाएगा। बहुत से अन्य देश में फादर्स डे किसी और दिन मनाते हैं जैसे, ऑस्ट्रेलिया में फादर्स डे सितंबर महीने के पहले रविवार को मनाया जाता है।

Father's Day in hindi

फादर्स डे क्यों मनाया जाता है? (Why do father’s day Celebrated?)

फादर्स डे यानी पितृ दिवस पिता को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है। इस दिन हम अपने पिता को उनके द्वारा दिए गए योगदानों, बच्चों के पालन पोषण की जिम्मेदारी को स्वीकार करने तथा उनके परिवार के प्रति समर्पण के लिए धन्यवाद देते हैं।

यह दिन उन पुरुषों को भी समर्पित होता है जिनके अपने बच्चे तो नहीं है लेकिन वह दूसरे बच्चों का ख्याल भी अपने बच्चों की तरह रखते हैं। फादर्स डे मनाने से पिता तथा उनके बच्चों के बीच और गहरा संबंध बनता है। समाज में पिता के महत्व को समझाने के लिए भी फादर्स डे मनाया जाता है।

 हाल के अध्ययनों में सायकोलॉजी टुडे ने पाया है कि जिन बच्चों के पिता उनके पास होते हैं वे भावनात्मक रूप से खुद को सुरक्षित महसूस करते हैं। साथ ही यह भी देखा गया है कि एक सक्रिय पिता जो अपने बच्चों का पालन-पोषण करते हैं उनकी मौखिक शैली, बौद्धिक कार्यप्रणाली और शैक्षणिक उपलब्धि भी बेहतर होती है।

Father’s day का इतिहास व महत्व (History of Fathers day)

हम फादर्स डे तो जून महीने के तीसरे रविवार को मनाते हैं लेकिन यह केवल तीसरे रविवार को ही क्यों मनाया जाता है? आइए इसे विस्तार से जानते हैं। पिता के सबसे करीब उनकी बेटियां होती हैं इसलिए आप समझ सकते हैं कि एक बेटी ने ही फादर्स डे की खोज की और उस बेटी का नाम था सोनोरा स्मार्ट डोड।

पहला फादर्स डे 19 जून 1910 को इस  स्पोकाने वाशिंगटन में मनाया गया था। सन 1909 में सोनोरा ने एक चर्च में मदर्स डे के ऊपर एक भाषण सुना। इस भाषण को सुनकर उन्हें यह लगा कि जिस तरह से मदर्स डे मनाया जाता है उसी तरह पिता के सम्मान में फादर्स डे का आयोजन भी होना चाहिए। सोनोरा को ऐसा इसलिए लगा क्योंकि उनके पिता विलियम जैकसन स्मार्ट ने अपने छह बच्चों की देखभाल अकेले की थी।

जब सोनोरा 16 साल की थी तभी उनकी माता का देहांत हो गया था और उनके पिता, जो एक सैनिक थे, उन्होंने अकेले ही अपने सभी बच्चों का पालन पोषण किया। 1910 में सुनोरा अपना यह विचार लेकर चर्च के पादरी के पास गई और उन्होंने सुनोरा के इस विचार का समर्थन किया और 19 जून 1910 को पहला फादर्स डे मना कर फादर्स डे का प्रचार सभी जगह किया। सोनोरा चाहती थी कि फादर्स डे उनके पिता के जन्म दिवस के दिन 5 जून को मनाया जाए लेकिन चर्च के पादरी को आयोजन के लिए कुछ समय चाहिए था इसलिए 19 जून को फादर्स डे मनाया गया।

1913 में कांग्रेस को फादर्स डे को मान्यता देने से इंकार कर दिया क्योंकि उन्हें लगा कि यह सिर्फ एक और अवकाश बन जाएगा। फादर्स डे को मान्यता प्राप्त कराने का संघर्ष कई वर्षों तक चला। 1966 में द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान कई परिवार ने अपने पिता को खोया था और उन्हें पिता के योगदान को महसूस किया इसलिए 1972 ईस्वी में राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने इसे राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मान्यता दी।

हमारे जीवन में पिता का महत्व

पिता कौन होते हैं? (Who is Father?)

पिता, जिन्हें हम पापा या फादर भी कहते हैं, दुनिया की सबसे अच्छी रचना है। एक बच्चा तो मां के पेट में पलता है लेकिन वही वह बच्चा पिता के दिमाग में पलता है। मां हमें जीवन देती है लेकिन पिता हमें जीवन जीना सिखाते हैं।

अक्सर पिता सभी घर के मुखिया माने जाते हैं क्योंकि उन्हें दुनिया का सबसे अधिक अनुभव होता है। एक पिता अपने बच्चों को बिना किसी शर्त और बिना किसी कारण के प्यार करता है। पिता हमारा साथ तब देते हैं जब हमें सच में किसी अपने के मदद की जरूरत होती है।

हर किसी के लिये उसके जीवन में पिता का होना ही काफी होता है उनके निस्वार्थ स्नेह व प्यार का अनुभव सहज प्रकट हो जाता है। एक पिता की जगह कोई नहीं ले सकता है माँ के दुलार और पिता के समर्पण व सुरक्षा के बिना सुखी और स्वस्थ जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है।

फादर्स डे या पितृ दिवस का महत्व (Significance of Father’s day)

फादर्स डे का महत्व बहुत अधिक होता है क्योंकि यही एक दिन होता है जिसमे बच्चे अपने पिता के लिए मुख्य रूप से कुछ करते हैं और उन्हें स्पेशल महसूस कराते हैं। अन्य दिनों में बच्चे अपने काम में ही व्यस्त रहते हैं लेकिन फादर डे के होने से बच्चों के मन में अपने पिता के लिए सम्मान जागृत होता है और वह अपने पिता की महत्व को समझ पाते हैं। इसके कारण ही फादर्स डे का महत्व हमारी जिंदगी में बहुत अधिक है।

फादर्स डे के कारण बच्चों को अपने पिता की सराहना करने का मौका मिलता है। साथ ही बच्चे अपने जीवन में पिता द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका के महत्व को पहचान पाता है। फादर्स डे या पितृ दिवस लोगों के लिए अपने पिता के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने का एक अद्भुत मौका है।

राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है? आइये जाने इतिहास व महत्व

> अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का इतिहास व महत्व

फादर्स डे या पितृ दिवस कैसे मनाये? (How to Celebrate father’s day?)

फादर्स डे या पितृ दिवस पर बहुत से लोग अपने पिता के सम्मान के लिए एक विशेष प्रयास करते हैं। लोगों द्वारा फादर्स डे अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है।

  • कुछ लोग अपने पिता को कोई कार्ड, फूलों का गुलदस्ता तथा अन्य उपहार जैसे, कपड़े या अपने पिता के मनपसंद वस्तु इत्यादि देते हैं।
    कुछ लोग अपने पिता के साथ बाहर घूमने जाने के लिए योजना बनाते हैं।
  • फादर्स डे के दिन कुछ बच्चे अपने पिता के लिए एक पार्टी का भी आयोजन करते हैं, जिसमें वह अपने पिता के नाम से केक काटकर उन्हें सम्मान देते हैं।
  • कुछ बच्चे जो अपने पिता को सामने जाकर अपने दिल की बात नहीं कह पाते वह शायरी तथा कविताओं के द्वारा अपने पिता को सम्मान प्रदान करते हैं।
  • फादर्स डे के दिन कुछ बच्चे ऐसे भी होते हैं जो केवल अपने पिता ही नहीं बल्कि अपने दादा, चाचा, ससुर इत्यादि अन्य पुरुषों को भी उपहार देते हैं क्योंकि वह पुरूष भी उन्हें उतना ही प्यार करते हैं जितना उनके पिता करते हैं।

प्रेरणादायक अनमोल वचन (Father’s day quotes hindi)-

  1. पिता एक मूक वात्सल्य प्रेमी है, जिसके भीतर वात्सल्य की सघन भावनाएं भरी होती हैं किंतु उनकी अभिव्यक्ति शून्य मात्रा होती है।
  2. जीवन में पिता की भूमिका ठीक एक कुम्हार की तरह होती है जो अपनी औलाद के भविष्य को गढता है।
  3. पिता अनुशासन के दर्पण की तरह होता है जिससे बच्चे अपने जीवन में आदर्श और अनुशासन सीखते हैं।
  4. पिता एक मात्र ऐसा शख्स है, जो परिवार पर आई हर विपत्ति को सहजता से लेता है ताकि उसके पूरे परिवार को दृढ़ता मिल सके।
  5. समाज में एक पुत्र की प्रारंभिक पहचान उसके पिता के नाम से होती है भले ही बाद में उसे अपनी खुद की पहचान मिले।
  6. एक पिता ही होता है जो अपने बच्चों की हर ख्वाहिश पूरी कर सकता है।
  7. पिता जब तक जीवित होता है परिवार पर आई है आज के लिए एक परछाई की तरह भूमिका निभाता है और कभी भी अपनी संतान पर आंच नहीं आने देता।
  8. बच्चे पिता का स्वाभिमान होते हैं उन्हीं के बल पर ही पिता समाज में एक स्वाभिमानी व्यक्तित्व का जीवन व्यतीत करता है।
  9. एक बच्चे के लिए सबसे खूबसूरत लम्हा वही होता है जब शाम को उसके पिता काम से घर वापस आते हैं। पिता के प्रेम की यह उत्कंठा अद्वितीय है।
  10. मां जन्म देती है स्वभाव में मृदुलता लाती है, परंतु पिता अपनी औलाद को एक इंसान बनाता है उसे इतनी दृढ़ता देता है कि वह अपने ऊपर आने वाली सभी भी विपत्तियों व परेशानियों को झेल सके।

फादर्स डे पर कविता (Poem on Father day)

फादर्स डे पर कविता (पितृ दिवस)– औलाद के भविष्य का आधार है पिता
परिवार के सपनों का संसार है पिता,
औलाद के भविष्य का आधार है पिता।
 
उंगली पकड़कर चलना सिखाता है,
नजरों से अपनी दुनिया दिखाता है।
मर्म और प्रेम का आकार है पिता,
औलाद के भविष्य का आधार है पिता।
 
जीवन की धूरी पर चाक चलाता है,
बच्चों को गढ़कर इंसान बनाता है।
नवजात की मिट्टी का कुम्हार है पिता।
औलाद के भविष्य का आधार है पिता।
 
दिन भर मेहनत कर, पसीना बहाता है,
खुद भूखा सोकर, बच्चों को खिलाता है।
उत्तरदायित्वो का सार है पिता,
औलाद के भविष्य का आधार है पिता।
-सौरभ शुक्ला
औलाद के लिये सब करता चला जाता है- एक पिता
औलाद के जन्म के बाद से ही,
जिम्मेदारियों के बोझ तले दब जाता है।
किसी से कोई शिकायत नहीं,
बस अपनों के लिए सब करता चला जाता है।
 
पत्थर तोड़ता है, फावड़ा चलाता है।
हर शाम थक हार कर, घर को चला जाता है।
खाली हाथ जाता है, भरे हाथ आता है।
बस अपनो के लिए सब करता चला जाता है।
 
बच्चों को जीने की राह दिखाता है,
उंगली पकड़कर चलना सिखाता है।
फिर भी औलाद को कम समझ आता है,
वह कुछ नहीं कहता बस करता चला जाता है।
 
बच्चों की खुशियां, त्योहार का बोझ,
घर की उलझन और परिवार का बोझ,
सारी जिम्मेदारियां अकेले उठाता है,
पर कुछ नहीं कहता, बस करता चला जाता है।
 
बहुत मुश्किल होता है एक जिम्मेदार पिता होना,
यह हुनर हर कोई नहीं कर पाता है,
मा महज जन्म देती है, पिता इंसान बनाता है।
पर कुछ नहीं कहता, बस करता चला जाता है।
-सौरभ शुक्ला

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों आज की इसलिए में हमने आपको फादर्स डे या पितृ दिवस के बारे में जानकारियां प्रदान की। उम्मीद करते हैं कि इस लेख को पढ़कर आप फादर्स डे के महत्व और फादर्स डे के इतिहास के बारे में जान गए होंगे। दोस्तों आज की इसलिए में हमने आपको फादर्स डे या पितृ दिवस के महत्व व इतिहास के बारे में बताया है।

पिता के समर्पण और कर्तव्य निष्ठा की तुलना नहीं की जा सकती है वह खुद की इच्छाओं का बलिदान करता है लेकिन अपने परिवार की इच्छाओं का पूर्ण ख्याल रखता है आप इस फादर्स डे पर अपने पिता के प्रति कैसे अभार व्यक्त करेंगे। कृपया अपने विचार व अनुभव नीचे कमेंट बॉक्स में शेयर अवश्य करें।

Follow us on Google News image

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न/FAQ

प्रश्न- 2022 में पिता दिवस कब है?

उत्तर- 2022 में पिता दिवस 19 जून 2022 को मनाया जाएगा।

प्रश्न- पितृ दिवस क्यों मनाया जाता है?

उत्तर – पितृ दिवस अपने पिता को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है।

प्रश्न- फादर्स डे (Father Day) की शुरुआत कब हुई थी?

उत्तर – फादर्स डे यानी पितृ दिवस की शुरुआत 19 जून 1910 में की गई थी।

प्रश्न- पिता दिवस कैसे मनाते हैं?

उत्तर – पिता दिवस के दिन बच्चे अपने पिता के मनपसंद चीजें करते हैं जिससे कि उनके पिता अच्छा महसूस कर सकें।

इन्हें भी जाने:-  
1. भारत की प्रथम मुस्लिम महिला फ़ातिमा शेख का जीवन परिचय एवं जीवन संघर्ष की कहानी
2.अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास व महत्व
3. राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस क्यों मनाया जाता है?
4. राष्ट्रीय विज्ञान दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?
4. राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है
5. राष्ट्रीय पर्यटन दिवस क्यों मनाया जाता है

Leave a Comment