Advertisements

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस क्यों मनाया जाता है? | National Safety day 2022 Theme, history in hindi

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस सप्ताह 2022 मनाने का उद्देश्य क्या है? National Safety Day and National Security Day or week in India, Objectives, theme, quotes, slogan in hindi

लोगों की आत्मरक्षा और राष्ट्र की सुरक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए भारतवर्ष में प्रत्येक वर्ष 4 मार्च का दिन राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है ताकि लोगों को सुरक्षा के प्रति जागरूक कर उन्हें सुरक्षा मामलों की गंभीरता समझाई जा सके।

Advertisements

आज इस आर्टिकल के जरिए हम राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस और राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह के बारे  और उससे जुड़े हुए इतिहास तथा उद्देश्य के विषय में जानेंगे।

विषय–सूची

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस क्यों मनाया जाता है?

भारत में 4 मार्च को हर वर्ष राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस ( National Safety Day) के रुप में मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य आमलोगों में सुरक्षा के नियमों का पालन करने के लिये जागरुकता लाना है।

जैसा कि यह दिन सुरक्षा के मामलों से और सुरक्षा के प्रति जागरूकता से संबंधित है इसलिए यह उतना ही महत्वपूर्ण भी है।

खासकर 4 मार्च को मनाया जाने वाला यह राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस देश की सीमा पर अपनी जान की बाजी लगाकर सुरक्षा कर रहे आर्मी सोल्जर्स के लिए समर्पित है।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस- National-Safety-Day-2022

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस से जुड़ा इतिहास (History and facts in hindi)

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस को मनाने की शुरुआत 4 मार्च सन 1966 से हुई थी। 4 मार्च के दिन को राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के रूप में मनाने की पहल भारत की एक गैर सरकारी संस्था नेशनल सेफ्टी काउंसिल ने की थी। जिसके बाद लगातार हर वर्ष 4 मार्च का दिन राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

नेशनल सेफ्टी काउंसिल एक गैर-लाभकारी संगठन है जिसकी स्थापना सन 1966 में लाए गए मुंबई सोसाइटी अधिनियम के आधार पर की गई थी। जब इस संगठन की स्थापना की गई तो इसमें कुल 8000 सदस्य शामिल थे।

4 मार्च को राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस किस लिए मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन सन 1966 में नेशनल सेफ्टी  काउंसिल अर्थात राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की स्थापना हुई थी, सन 1972 में  इसी संगठन द्वारा 4 मार्च को राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस  के रूप में मनाने की शुरुआत की गई।

राष्ट्रपति डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी ने इस सुरक्षा दिवस का आवाहन किया था  ताकि लोगों को उद्योगी क्षेत्र में सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जा सके और औद्योगिक दुर्घटनाओं की दर में कमी आ सके हालांकि जब इसकी पहल की गई उसके बाद से लगातार हर वर्ष औद्योगिक और अन्य प्रकार की दुर्घटनाओं में  काफी कमी आई है और आजकल लोग भी सुरक्षा के मामले को बड़ी गंभीरता से लेने लगे हैं हालांकि यह सब राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस और राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह की ही देन है जिसमें लोगों को अपनी सुरक्षा के प्रति इतनी जागरुकता मिली।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस एवं सप्ताह कब है?

4 मार्च का यह दिन केवल राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस ही नहीं अपितु राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह (National Safety week) के रूप में भी मनाया जाता है।

यह राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह 4 मार्च से शुरू होकर 10 मार्च तक मनाया जाता है। इस बार 4 मार्च 2022 को 51वां राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाया जाएगा और यह 10 मार्च 2022 तक चलेगा।

जिस के दरमियान विभिन्न प्रकार के सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है और लोगों में जागरूकता के प्रति प्रेरणा पहुंचाई जाती है ।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाने के उद्देश्य –

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस को मनाने का प्रमुख उद्देश्य पूरे देश को सुरक्षा की बारीकियों के बारे में जागरूक करना है।

पूरे राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजन के जरिए लोगों को सुरक्षा, और उसके साथ-साथ पर्यावरण और स्वास्थ्य जैसे कारकों की सुरक्षा के बारे में जागरूक किया जाता है।

इस दिन लोगों को सार्वजनिक सुरक्षा में अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए प्रेरित किया जाता है।

स्वच्छ परिवेश की सुरक्षा-

देश की सुरक्षा केवल दुश्मनों से ही नहीं बल्कि हमें आपदाओं और प्रदूषण से भी करनी है।

देश के स्वच्छ परिवेश की सुरक्षा भी राष्ट्रीय सुरक्षा के अंतर्गत आती है जो हमारी जिम्मेदारी है ताकि हमारे राष्ट्रीय परिवेश में रहने वाले हमारे सभी देशवासी सदैव स्वस्थ रह सकें अगर वह स्वस्थ रहेंगे तो वह अपनी सुरक्षा दूसरे चीजों से भी कर सकते हैं लेकिन अगर वह स्वस्थ ही नहीं तो सुरक्षा की कोई गुंजाइश नहीं होती इसलिए हमें सुरक्षा के अंतर्गत सबसे पहले सुरक्षित परिवेश और स्वच्छता को प्राथमिकता देनी चाहिए।

नारी सुरक्षा – सुरक्षित परिवेश के साथ साथ हमारे देश की प्रत्येक महिला की सुरक्षा भी हमारी जिम्मेदारी है जिसका हमें शक्ति से निर्वहन करना चाहिए और उन्हें भी इस के प्रति जागरूक करना चाहिए ताकि वह स्वयं अपनी सुरक्षा कर सकें।

निर्धनता से सुरक्षा – अरे देश की जनसंख्या बहुत अधिक है जिसमें बहुत सारे गरीब और निर्धन व्यक्ति भी आते हैं उनके सुरक्षा की भी जिम्मेदारी हमारी होती है अपनी गरीबी के कारण वह अपने लिए सुरक्षित परिवेश बनाने में असफल होते हैं इसलिए हमें मिलकर और एकजुट होकर उनके लिए एक सुरक्षित परिवेश बनाना चाहिए।

ऐसे ही विभिन्न प्रकार के विषयों को चुनकर हम सुरक्षा दिवस के उद्देश्य के रूप में स्थापित कर सकते हैं और उसी आधार पर प्रत्येक वर्ष सुरक्षा दिवस को मना सकते हैं।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस से जुड़ी मूल विचारधारा –

1. व्यक्तियों को सुरक्षा के प्रति गंभीर जागरूक करना।

2. एक दूसरे की सुरक्षा में परस्पर भूमिका के लिए प्रेरित करना।

3. आवश्यक संसाधनों को एक दूसरे की सहायता से जुड़ा कर सुरक्षित कार्यस्थल का निर्माण करना।

4. नव निर्माण के जरिए सुरक्षा संसाधनों को विकसित करना और समस्याओं से निपटने के नए उपायों की खोज करना।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पर क्या-क्या होता है? (Celebration of National Safety day 2022)

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 4 मार्च को पूरे भारतवर्ष में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पूरे जोश और उल्लास के साथ मनाया जाएगा इस वर्ष का राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह 4 मार्च से लेकर 10 मार्च तक होगा जिसमें विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा और उसके जरिए लोगों को सुरक्षा की गंभीरता के प्रति जागरूक कर देश की सुरक्षा के लिए अपना बलिदान देने वाले वीर जवान सैनिकों को याद किया जाएगा।

साथ ही साथ इस समय घर रही नई नई महामारी की गंभीरता से लोगों को परिचित कराया जाएगा और उसके प्रति सचेत होने के लिए और  बचाव के उपायों को अपनाने के लिए प्रेरित भी किया जाएगा।

 इस वर्ष 2022 में  हम राष्ट्रीय सुरक्षा संघ दिवस का 51 वां  अवसर मनाएंगे हालांकि अभी तक इस वर्ष के राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस की थीम निर्धारित नहीं हुई है  लेकिन इस वर्ष की थी मौजूदा  इस स्थिति को देखते हुए  महामारी और आपदा प्रबंधन जैसे विषयों पर हो सकती है।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के लिए विषय एवं थीम (National Safety day Themes 2022)-

इस वर्ष 2022 में 51वां राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस/सप्ताह मनाया जाएगा। इस वर्ष 2022 की थीम सुरक्षा संस्कृति के विकास के लिये युवाओं को प्रोत्साहित करना है।

प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस को मनाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह एवं राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस की एक थीम निर्धारित की जाती है जिसे केंद्रित करके लोगों तक जागरूकता फैलाने का अभियान चलाया जाता है। आइए राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के कुछ वर्षों में निर्धारित किए गए अलग-अलग थीम के बारे में जानते हैं।

सन 2011 – सुरक्षित स्वास्थ्य एवं पर्यावरण की स्थापना और उसकी देखरेख ।

सन 2012 – स्वच्छ स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण के प्रति सुनिश्चित हमारा मौलिक अधिकार।

सन 2013 – सार्वजनिक वातावरण और कार्यस्थल को सुरक्षित और स्वस्थ करने के लिए मिलकर योगदान देना।

सन 2014 – कार्यस्थल और वातावरण पर मंडराते हुए खतरो का नियंत्रण करना और एक सुरक्षित परिवेश की स्थापना करना।

सन 2015 – सुरक्षा की स्थाई आपूर्ति के लिए सुरक्षित संस्कृति की स्थापना करना।

सन 2016 – कार्यस्थल पर पूरी सुरक्षा के लिए सशक्त सुरक्षा आंदोलन में सहभागिता।

सन 2017 – एक दूसरे के प्रति सुरक्षा जिम्मेदारियों का पूर्ण निर्वहन करना और एक दूसरे को सुरक्षित रखना।

सन 2018 – सुरक्षा और सुरक्षित परिवेश केवल हमारी प्राथमिकता ही नहीं बल्कि यह हमारा मूल्य है।

सन 2019 – इस वर्ष की थीम में औद्योगिक सुरक्षा को प्राथमिकता दी गई।

सन 2020 – इस साल की थीम का नाम था हमारे सुरक्षाकर्मियों को प्रणाम।

सन 2021 – आपदा से सीख लें और सुरक्षित और स्वस्थ भविष्य की तैयारी करें।

राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह की गतिविधियां और कार्यक्रम –

राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह में विभिन्न प्रकार के सरकारी और गैर सरकारी संगठनों द्वारा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है इसके अलावा कई अन्य संस्थाएं भी विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन करती हैं जिसका प्रमुख देश लोगों को सुरक्षा के प्रति जागरूक करना होता है।

इस दिन पूरे देश में विभिन्न कार्यक्रमों इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पत्र पत्रिकाओं और समाचार पत्रों द्वारा सुरक्षा के प्रति जागरूकता और सुरक्षा में जोखिमों के प्रबंधन के लिए तैयारी के बारे में लेख लिखे जाते हैं ताकि लोग उनसे प्रेरित हो सकें और उन्हें अपने जीवन शैली में अपना सकें।

इस सप्ताह के अंतर्गत राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय स्तर पर विभिन्न प्रकार की गतिविधियां आयोजित की जाती हैं जिनमें वाद विवाद प्रतियोगिता पोस्टर प्रतियोगिता स्लोगन लेखन निबंध लेखन बैनर प्रदर्शन और अन्य सुरक्षा संबंधी नाटकों का आयोजन के जरिए लोगों के सामने सुरक्षा के प्रति गंभीरता परिचय कराया जाता है और उन्हें सुरक्षित परिवेश की स्थापना के लिए जागरूक किया जाता है।

इतना ही नहीं इस दिन भारत के युवा वर्ग के लोग सड़कों पर उतर कर सुरक्षा पर नारे लगाते हुए विभिन्न प्रकार की रैलियां करते हैं ताकि देशभर के लोगों को जागरूक कर सके। इस दिन स्कूल कॉलेज और अन्य विश्वविद्यालयों में भी सुरक्षा से जुड़े विषयों पर कई आयोजन किए जाते हैं।

इन्हें भी जाने:-  
> भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी (Freedom Fighters of India)
> शहीद दिवस क्यों मनाया जाता है?
> अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस कब मनाया जाता है?
> अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है
> राष्ट्रीय पराक्रम दिवस क्या है? 
> भारतीय सेना दिवस कब मनाया जाता है?

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस से जुड़े स्लोगन (National Safety day quote and slogans in hindi)

1. चलो निभाए जिम्मेदारी, करें सुरक्षा की तैयारी।
2. अपनी सुरक्षा हमारी पहली सफलता होती है, अगर हम सुरक्षित नहीं तो सफलता का ध्येय कभी नहीं प्राप्त कर सकते।
3. जीवन में आत्म सुरक्षा सबसे जरूरी है, बिना सुरक्षा सारी खुशियां और सफलता अधूरी है।
4. अपनों की सुरक्षा, अपनी सुरक्षा।
5. खुद की और दूसरों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है, एक दूसरे की सुरक्षा के प्रति जिम्मेदार बने।
6. स्वस्थ और सुरक्षित परिवेश से ही आनंदमय जीवन का मन्त्र  है। सुरक्षा में लापरवाही से हम जीवन से हाथ धो बैठेते हैं।
7. एक सुंदर भविष्य के निर्माण के लिए वर्तमान में अपनी सुरक्षा बहुत जरूरी है अगर आप का आज सुरक्षित है तो आपका भविष्य भी सुरक्षित होगा।
8. आपकी सुरक्षा आपके हाथ।
9. जल सुरक्षित, कल सुरक्षित।
10. आपका भविष्य आपके अपनों का भविष्य है इस के साथ खिलवाड़ मत करिए।

देश के नागरिकों व आमलोगों को सुरक्षा के प्रति सचेत करना ही इस दिवस का मुख्य उद्देश्य है। दुर्घटनाओं का होने का मुख्य कारण इसके प्रति जागरुकता न होना है। लोगों को इसका आभास भी नहीं होता है कि आपात स्थिति में क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिये, आग लगने पर, भूकंप की स्थिति में, सड़क दुर्घटना के समय क्या-क्या करना चाहिये किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिये।

इसके लिये हम सभी को जागरुक होना होगा। इस दिन का एकमात्र उद्देश्य यही है। इस लेख में हमने कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा की। इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि लोग इसके प्रति जागरुक हो इसे इसकी उपयोगिता को समझे।

FAQ

प्रश्न- राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस/सप्ताह कब से है?

उत्तर- 4 मार्च से शुरू होकर 10 मार्च तक है।

प्रश्न- राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस/सप्ताह 2022 की थीम विषय क्या है

उत्तर- सुरक्षा संस्कृति के विकास के लिये युवाओं को प्रोत्साहित करना।

प्रश्न- सबसे पहले राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस/सप्ताह कब मनाया गया था।

उत्तर- इसकी शुरुआत सबसे पहले 4 मार्च 1966 से हुई।

Leave a Comment