अमरनाथ की यात्रा कैसे करें | Amarnath Yatra Registration Kaise kare 2022

अमरनाथ की यात्रा कैसे करें 2022, अमरनाथ की यात्रा के लिए पंजीकरण कैसे करें, अमरनाथ की यात्रा कब शुरु होगी? (How to registered for Amarnath Yatra hindi)

अमरनाथ जो कि एक बहुत ही मान्यता प्राप्त प्रमुख तीर्थ स्थल है। यहां पर हर साल हजारों श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन करने आते हैं। यह तीर्थ स्थल समुंद्र तल से 13500 फीट की उंचाई पर स्थित है।

अमरनाथ की यात्रा हर व्यक्ति अपने जीवन में एकबार अवश्य जरुर करना चाहता है। अमरनाथ एक ऐसा तीर्थ स्थान है, जहां पर केवल भारत देश से ही नहीं बल्कि दूसरे देशों से भी लोग बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए एकत्रित होते हैं। हमारे देश में बहुत श्रद्धालु ऐसे हैं, जिन्हें अमरनाथ की यात्रा के बारे में पूर्ण जानकारी ना होने के कारण वह इस यात्रा का भाग नहीं बन पाते।

आज हम आपको अमरनाथ की यात्रा के बारें में सभी तरह की जानकारी देंगे। जैसे-अमरनाथ की यात्रा का पंजीकरण कैसे करें, आवश्यक दस्तावेजों एवं निर्देशों तथा अमरनाथ की यात्रा के रास्तों के बारे में विस्तारपूर्वक बताएंगे। जिससे आप आसानी से अमरनाथ की यात्रा कर पाएंगे।

अमरनाथ की यात्रा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी (All Information about Amarnath Yatra hindi)

दोस्तों, जैसा कि आपको पता है कि अभी कोरोना महामारी के कारण 2 साल से अमरनाथ की यात्रा नहीं हो पा रही थी। लेकिन साल 2022 से अमरनाथ की यात्रा को वापस से शुरू कर दिया गया है। साथ ही इसकी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है।

साल 2022 अमरनाथ की यात्रा 56 दिनों की होगी। 2022 अमरनाथ की यात्रा का रेजिस्ट्रेशन 11 अप्रैल से शुरू हो चुका है। और रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारिख 30 मई होगी। यह यात्रा 28 जून से शुरू होगी तथा रक्षाबन्धन के दिन 11 अगस्त को खत्म होगी।

अमरनाथ मंदिर का इतिहास महत्व और कहानी

अमरनाथ की यात्रा के आवश्यक निर्देश एवं दस्तावेज

1यात्री की आयु 13 वर्ष से 75 वर्ष के होनी चाहिए।
2यह यात्रा 6 हफ्ते से अधिक गर्भावस्था वाली गर्भवती महिलाएं नहीं कर सकती है।
3यात्रा के दौरान आपके पास ओरिजिनल फोटो और मेडिकल सर्टिफिकेट होना अनिवार्य है।

अमरनाथ की यात्रा के लिए पंजीकरण से पहले हमारे पास कुछ आवश्यक दस्तावेज होने जरूरी हैं।

• चार पासपोर्ट साइज फ़ोटो – आपके चारों पासपोर्ट साइज फोटो पर आपके साइन होने चाहिए। केवल सिग्नेचर किया हुआ फोटो ही मान्य होगा।

• मेडिकल सर्टिफिकेट – पंजीकरण का फॉर्म भरने से पहले आपको अपना शारीरिक जांच करवाना होगा। केवल उन्हीं डॉक्टरों और हॉस्पिटलों का हेल्थ सर्टिफिकेट मान्य होगा जिसकी सूची अमरनाथ यात्रा के ऑफिशियल वेबसाइट पर उपलब्ध है।

• आधार कार्ड

अमरनाथ की यात्रा कैसे करें, Amarnath cave Yatra Registration Kaise kare

अमरनाथ की यात्रा के लिए पंजीकरण कैसे करें (Amarnath Yatra Registration Kaise kare)

अमरनाथ यात्रा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 11 अप्रैल से ही शुरू हो चुका है। पंजीकरण शुल्क लगभग ₹ 150/- है।  अब हम आपको ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन का स्टेप बाई स्टेप प्रक्रिया बताएंगे। जिसके द्वारा आप अपना रजिस्ट्रेशन खुद कर सकते हैं।

ऑनलाइन रेजिस्ट्रेशन – अमरनाथ यात्रा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 11 अप्रैल से ही शुरू हो चुका है। पंजीकरण शुल्क लगभग 150/₹ है।  अब हम आपको ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन का स्टेप बाई स्टेप प्रक्रिया बताएंगे। जिसके द्वारा आप अपना रजिस्ट्रेशन खुद कर सकते हैं।

Step 1 – सबसे पहले हमे अमरनाथ यात्रा की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा। आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके ऑफिशियल वेबसाइट पर पहुंच सकते हैं। www.shriamarnathjishrine.com

Step 2 – वेबसाइट खोलने के बाद होम पेज खुल कर आएगा जहां what’s new का ऑप्शन होगा। हमें उस ऑप्शन पर क्लिक करना है।

Step 3 – What’s New ऑप्शन पर क्लिक करने पर बाद नीचे लिखा होगा। Click here to registration online हमें इसी ऑप्शन पर क्लिक करना है।

Step 4 – लिंक पर क्लिक करने के बाद एक नया पेज खुलेगा जहां पर आपको तीन विकल्प दिखेंगे। Login, Register और Make Payment

Step 5 – हमे Register विकल्प पर क्लिक करना है। क्लिक करने में बाद एक नया पेज खुलेगा। जिसने हमे एप्पलीकेशन फॉर्म भरने का स्टेप बताया गया है और साथ ही यात्रा करते समय ध्यान रखने वाली बातें बताई गई है। उसी पेज में नीचे आने पर यात्रा से संबंधित दस्तावेज के बारे में बताया गया है। यह जानकारी हमने आपको ऊपर बताई है। उसके बाद आपको I Agree वाले बॉक्स पर टिक करके register बटन पर क्लिक करना होगा।

Step 6 –
रजिस्टर पर क्लिक करते ही यात्री रजिस्ट्रेशन का पेज ओपन हो जाएगा। जहां पर आपको अपनी जानकारी तथा आपकी मेडिकल रिपॉर्ट की जानकारी भरनी होगी। जानकारी भरते समय आपको यह ध्यान रखना है कि आप अपनी जानकारी बिल्कुल ठीक तरह से भरें क्योंकि एक बार रजिस्ट्रेशन होने के बाद आप अपनी जानकारी को बदल नहीं सकते। आप एक मोबाइल नंबर से चार व्यक्ति का रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

Step 7– पर्सनल डिटेल्स में आपको अपनी खुद की जानकारी भरनी होगी। जैसे- अमरनाथ यात्रा के लिए रास्ता यात्रा करने की तारीख, आपका नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, आपके कीसी परिजन का नाम, इत्यादि।
मेडिकल डिटेल्स में आपको वह जानकारी भरनी है जहां से अपने यात्रा के लिए मेडिकल सर्टिफिकेट बनवाया है। इसी जगह आपको अपनी फोटोग्राफ और मेडिकल सर्टिफिकेट भी अपलोड करनी है। आपको यह फोटोग्राफ और सर्टिफिकेट पीडीएफ में अपलोड करना होगा जिसकी साइज 1 MB होना जरूरी है।

Step 8 –सारी जानकारी भरने के बाद आपको I Agree पर टिक करना है। और सबमिट बटन पर क्लिक कर देना है।

Step 9 –क्लिक करते ही एक नया पेज खुलेगा जहां पर आपसे ओटीपी डालने के लिए कहा जाएगा। OTP डालने के लिए आपको Click Here पर क्लिक करना होगा। इस पर क्लिक करते ही आपका एप्लीकेशन नंबर और मोबाइल नंबर पहले से लिखा हुआ आ जाएगा। और उसके नीचे ओटीपी डालने का स्थान दिया रहेगा। ओटीपी डालने के बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना है।

Step 10- इसके बाद उसी पेज पर दायीं तरफ Register का ऑप्शन दिखाई देगा उस पर क्लिक करने के बाद आपको verify application सेलेक्ट करना है। सेलेक्ट करते ही एक नया पेज खुलेगा। जहां पर आपको अपना एप्लीकेशन नंबर और मोबाइल नंबर भरना होगा। एप्लीकेशन नंबर आपके मोबाइल पर देख सकते है। अब आपको सबमिट बटन पर लिखकर देना है।

Step 11 –  इस तरह आप का रजिस्ट्रेशन अमरनाथ की यात्रा के लिए हो जाएगा और इसका कंफर्मेशन आपको आपके मोबाइल पर मैसेज या ईमेल के द्वारा मिल जाएगा। साथ ही बात आती है पेमेंट करने की। तो एप्लीकेशन भरने के बाद आप का रजिस्ट्रेशन अंडर प्रोसेस दिखाएगा। जब भी आपका एप्लीकेशन clear हो जाता है। तो आपके मोबाइल पर मैसेज आ जाएगा और उसके बाद आप यात्रा के लिए पेमेंट करके यात्रा परमिट डाउनलोड कर सकते हैं।

आप अमरनाथ की यात्रा का पंजीकरण ऑफलाइन भी करवा सकते हैं। ऑफलाइन पंजीकरण बैंक के द्वारा होता है जिसकी जानकारी अमरनाथ यात्रा की ऑफिशल वेबसाइट पर दी गई है।

www.shriamarnathjishrine.comOfficial Website for Registration

अमरनाथ गुफा की यात्रा कैसे करें? (All Information about Amarnath Yatra hindi)

अमरनाथ यात्रा की एक खास बात यह भी है कि यहां किसी भी श्रद्धालु को यात्रा के दौरान खाने, पीने या ठहरने की कोई दिक्कत नही होती। पूरे अमरनाथ  यात्रा में जगह – जगश टेंट लगाए गए जिससे किसी भी भक्त को कोई परेशानी नही होती। टेंट में रहने के लिए टेंट का किराया भी लगता है। अमरनाथ की यात्रा के लिए सबसे पहले हमें जम्मू आना पड़ता है। फिर वहां से श्रीनगर आना होता है और वही से यात्रा के लिए दो रास्ते निकलते हैं।

हवाई मार्ग – अमरनाथ की चढ़ाई पहलगाम से आरभ्भ हो जाती है यहां का नजदीकी ऐयरपोर्ट श्रीनगर में है जोकि पहलगाम से 90 किमी दूरी पर है इसके बाद जम्मू ऐयरपोर्ट है यह करीब 263 किमी है वैसे जम्मू देश के सभी बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है।

दिल्ली से श्रीनगर1 घंटे 35 मिनट
मुंबई से श्रीनगर3 घंटे
बेंगलुरु से श्रीनगर4 घंटे 40 मिनट है।

श्रीनगर से टैक्सी और बस दोनों मिलती हैं जिससे पहलगाम पहुंचा जा सकता है।
कितना समय लगेगा जम्मू से पहलगाव – 12 से 15 घंटे
जम्मू से पहलगाम तक – श्रीनगर से पहलगाव – 2 घंटे 40 मिनट लग जाते है समय के लिहाज से श्रीनगर ही पहुचंना सही रहेगा।

रेलमार्ग – पहलगाम से नजदीक का रेलवे स्टेशन उधमपुर है जिसकी दूरी 217 किमी के करीब है। इसके अलावा जम्मू रेलवे स्टेशन जम्मू तवी देश के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। जम्मू स्टेशन से पहलगाम की दूरी 234 किमी के करीब है। यानि आप जो रास्ता अपनाये इसके लिये आपकों पहलगाम तक पहुंचना होगा।

1. पहलगाम से होकर

अमरनाथ की यात्रा के लिए पहला रस्ता पहलगाम से होकर जाता है। पहलगाम से अमरनाथ तक की दूरी 48 किलोमीटर है। श्रीनगर से पहलगाम तक कि दूरी 92 किलोमीटर है। श्रीनगर से पहलगाम तक आप बस के द्वारा जा सकते है।

पहलगाम पहुंचकर आप वहां रुक भी सकते है। उसके बाद पहलगाम से चंदनवाड़ी जाना होता है पहलगाम से चंदनबाड़ी की दूरी 8 किलोमीटर की है चंदनबाड़ी तक आप टैक्सी से जा सकते हैं। चंदनबाड़ी तक पहुंचने के बाद यहां एक रात का समय बिताना होता है। क्योंकि चंदनबाड़ी से सभी यात्री की पैदल यात्रा शुरू होती है।

चंदनबाड़ी चंदन के बाद अगला पड़ाव शेषनाग है, जो कि 14 किलोमीटर की दूरी पर है। चंदनबाड़ी से ही सभी यात्री सुबह-सुबह शेषनाग जाने के लिए चढ़ाई शुरू करते हैं।

शेषनाग के पिस्सू घाटी से होकर गुजरना पड़ता है जोकि बहुत जोखिम भरी घाटी है। इसी घाटी पर बहुत ही खूबसूरत नीले पानी की झील भी है। पहलगाम से शेषनाग तक पहुंचने में पूरे 2 दिन लगते हैं। और तीसरे दिन की यात्रा इसी जगह से सुबह शुरू होती है। यहां से सभी श्रद्धालु पंचतरणी के लिए यात्रा शुरू करते हैं। जोकि 8 मील की दूरी पर है। पंचतरणी बहुत ऊंचाई पर है। इसके कारण यहां ऑक्सीजन की भी कमी होने लगती है। इसलिए यहां पर यात्रियों को बहुत ही ध्यान रखना पड़ता है। पंचतरणी से अब सभी यात्रियों को अमरनाथ की गुफा के लिए यात्रा करना है पंचतरणी से अमरनाथ की गुफा केवल 8 किलोमीटर की दूरी पर है। यह रास्ता कठिन भी है लेकिन बहुत खूबसूरत भी है।

पंचतरणी से अमरनाथ की गुफा के रास्ते में केवल बर्फ ही बर्फ है, जिसे देखकर बहुत ही आनंद की अनुभूति होती है। अमरनाथ की पवित्र गुफा में पहुंचकर सभी यात्री थोड़ा विश्राम करते हैं। और अगले दिन सुबह स्नान करके बाबा बर्फानी के दर्शन करते हैं। बहुत से श्रद्धालु हेलीकॉप्टर या खच्चर से भी अमरनाथ की गुफा तक का रास्ता तय करते हैं।

2. बालटाल से होकर

बालटाल से अमरनाथ की गुफा केवल 14 किलोमीटर तक की है। बालटाल से अमरनाथ की गुफा का यह सबसे छोटा रास्ता है लेकिन इस रास्ते में काफी चढ़ाई करनी होती है जोकि बहुत जोखिम भरा होता है।  सबसे पहले हमें श्रीनगर से बालटाल आना पड़ता है।

श्रीनगर से बालटाल की दूरी 93 किलोमीटर तक की है। जिसकी दूरी 2 किलोमीटर है। इसके बाद दोमोल से बरारी के लिए चढ़ाई करनी होती है। जिसकी दूरी 5 किलोमीटर की है। बरारी से अब सभी यात्री अमरनाथ की पवित्र गुफा के लिए यात्रा शुरू करते हैं बरारी से अमरनाथ की पवित्र गुफा 7 किलोमीटर की दूरी पर है।

दोस्तों अमरनाथ की यात्रा इन दो पवित्र रास्तों (पहलगाम और बालटाल) से शुरू की जाती है। बालटाल का रास्ता बहुत ही छोटा है परंतु इस रास्ते में बहुत ही चढ़ाई करनी पड़ती है जिसके कारण अधिकतर श्रद्धालु पहलगाम के रास्ते से अमरनाथ की गुफा तक का रास्ता तय करते हैं। अमरनाथ की गुफा से वापस आते समय लगभग सभी श्रद्धालु बालटाल के रास्ते से होकर आते हैं क्योंकि वापस आते समय अधिक चढ़ाई नहीं करनी होती और बालटाल के रास्ते से हम एक दिन में ही श्रीनगर वापस पहुंच सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों, अमरनाथ की यात्रा बहुत ही अद्भुत होती है यह यात्रा पूरे 3 दिन की होती है लेकिन अमरनाथ की पवित्र गुफा में पहुंचते ही यह 3 दिन की थकान एक सेकंड में ही खत्म हो जाती है उम्मीद करते हैं कि अमरनाथ की यात्रा के बारे में आपको जानकारी मिल पाई होगी। अमरनाथ की यात्रा का ऑफिशियल वेबसाइट www.shriamarnathjishrine.com है। अमरनाथ की यात्रा से संबंधित आप सभी तरह की जानकारी इस वेबसाइट पर जाकर ले सकते हैं।

आइये इन्हें भी जाने -
> शिव के 12 ज्योतिर्लिंग के नाम क्या-क्या है
> केदारनाथ मंदिर का इतिहास, रहस्य व कहानी
> सोमनाथ मंदिर का इतिहास व रोचक तथ्य 
> उज्जैन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का इतिहास व कहानी
> रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की कथा और इतिहास
> चार धाम यात्रा के नाम, इतिहास और महत्व
> काशी के रत्नेश्वर मंदिर का रहस्य व इतिहास
> क्या हैं भीमकुंड का रहस्य, इतिहास, पौराणिक कहानी



Leave a Comment