Advertisements

जगदीप धनखड़ का जीवन परिचय | Jagdeep dhankhar biography in hindi

कौन है जगदीप धनखड़ बायोग्राफी इन हिंदी, जीवनी, जीवन परिचय, शिक्षा [परिवार, पत्नी, बेटी का नाम, गाँव का नाम, जन्म, राजनीतिक करियर का सफर, जाति, धर्म, पार्टी का नाम, सम्पति] (governor Jagdeep dhankhar biography in hindi , politics career, latest news, village name, age, mla list, birth date, education of Jagdeep dhankhar, networth, religion, family, caste, wife name, children)

भारत में उपराष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। वोटों की गिनती के बाद एनडीए के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार जगदीप धनखड़ को विजेता घोषित कर दिया गया है। जगदीप धनखड़ भारत के पहले ओबीसी उपराष्ट्रपति बनेंगे।

दोनों सदनों में भारतीय जनता पार्टी के बहुमत के कारण जगदीप धनखड़ का उपराष्ट्रपति बनना पहले से ही तय था लेकिन चुनाव प्रक्रिया की औपचारिकता के साथ ही अब आधिकारिक तौर पर जगदीप धनखड़ को भारत का नया उपराष्ट्रपति घोषित कर दिया गया है।

Advertisements

राजनीति में आने के पूर्व जगदीप धनखड किसानी और वकालत में अपनी सक्रिय भूमिका निभा चुके हैं। राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने के पूर्व जगदीप धनखड़ पश्चिम बंगाल के राज्यपाल भी रह चुके हैं जिस दौरान उनका कार्यकाल काफी चर्चित रहा।

उपराष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित करने के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई अन्य दिग्गज नेताओं ने उन्हें किसान पुत्र कह कर संबोधित किया था और एक बार फिर उनकी जीत के बाद जय जवान जय किसान के नारे लगाए गए।

तो आइए भारत के पहले ओबीसी उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के जीवन के बारे में जानते हैं और बताते हैं कि वकालत से लेकर उपराष्ट्रपति बनने तक उनके जीवन का सफर कैसा रहा।

तो आइए आज हम जगदीप धनखड़ के जीवन परिचय और उनकी राजनीतिक सफर के बारे में बात करते हैं।

इन्हें भी पढ़ेंHistory and Facts of Indian National Flag – भारतीय तिरंगे झंडे के बदलतेस्वरूप का ऐतिहासिक सफर

भारत के नए उपराष्ट्रपति होंगे जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar 14th vice president of India news in hindi)

6 अगस्त 2022 को उपराष्ट्रपति मतगणना के दौरान जगदीप धनखड़ अपनी प्रतिद्वंदी विपक्ष की उपराष्ट्रपति उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को हराकर भारत के नए उपराष्ट्रपति बने हैं।

भारत के दोनों सदन लोकसभा तथा राज्यसभा में कुल मिलाकर 788 सदस्य सीट है जिनमें से उच्च सदन में 8 सीटें अभी रिक्त हैं यानी कि कुल मिलाकर सदन के सदस्यों की संख्या 780 है। कुल मिलाकर इस बार उपराष्ट्रपति चुनाव में लगभग 93% मतदान हुआ था।

जिनमें से 725 वोटों में से 528 वोट एनडीए के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार जगदीप धनखड़ जी को मिले जबकि उनके प्रतिद्वंदी और विपक्ष की प्रतिनिधि मार्गरेट अल्वा को महज 182 वोट मिले। उपराष्ट्रपति चुनाव में कुल 346 वोटों की बढ़त के साथ जगदीप धनखड़ जी विजेता घोषित किए गए। 15 वोटों को अवैध करार दे दिया गया।

पश्चिम बंगाल का राज्यपाल बनने के बाद से ही जगदीप धनखड़ और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी में काफी मतभेद देखा गया। लिहाजा तृणमूल कांग्रेस ने खुद को दूर कर लिया था। दोनों सदन में तृण मूल कांग्रेस के कुल 39 मेंबर थे।

आइये जाने क्या हैं भारत के राष्ट्रपति की शक्तियाँ एवं चुनाव की पूरी प्रक्रियाँ

जगदीप धनखड़ का जीवन परिचय (Jagdeep dhankhar biography in hindi)

असली नाम (Real Name)जगदीप धनखड़
प्रसिद्धी का कारणराज्यपाल, पश्चिम बंगाल
उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार
जन्म (Date of Birth)18 मई 1951
जन्म स्थान (Place of Birth)जिला-झुंझुनू , गांव- किठाना, राजस्थान
आयु (Age)71 वर्ष (2002)
पेशा (Professions)राजनीतिज्ञ
राष्ट्रीयताभारतीय
धर्म एवं जाति (caste, religion)हिंदू , जाट
स्कूलसैनिक स्कूल, चित्तौड़गढ़
शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification)स्नातक बीएससी कोर्स (Physics)
कॉलेज (College)एलएलबी, राजस्थान यूनिवर्सिटी
सम्पति (Net worth)अनुमानित ₹8 करोड़
वजन (Weight)72 kg
लम्बाई (Height)5.10 फिट

जगदीप धनखड़ प्रारंभिक जीवन –

एनडीए के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार जगदीप धनखड़ का जन्म भारत के राजस्थान राज्य के झुंझुनू जिले के किठाना गांव में दिनांक-18 मई 1951 को हुआ था। जगदीप धनखड़ का जन्म राजस्थान के एक जाट परिवार में हुआ था।

जगदीप धनखड़ के पिता का नाम गोकल चंद जबकि उनकी माता का नाम केसरी देवी है। इसके अलावा जगदीप धनखड़ चार भाई बहन हैं। उनके बड़े भाई का नाम कुलदीप धनखड जबकि उनके छोटे भाई का नाम रणजीत धनखड़ है। उनकी एक बहन भी है जिसका नाम इंद्रा धनखड़ है।

भारत की राजनीति में आने से पहले जगदीप धनखड़ भारतीय उच्चतम न्यायालय के जाने-माने वकील थे। वकालत के दौरान उन्होंने खूब नाम कमाया जिसके बाद यह काफी चर्चा में आ गए। इसी दौरान इन्हें जनता दल द्वारा टिकट भी मिला और राजनीति में इनका प्रवेश हुआ। आपको बता दें कि भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के राज्यपाल बनने से पहले यह केंद्रीय मंत्री के पद पर भी रह चुके हैं।

who is Jagdeep dhankhar biography in hindi

साल 1990 में इन्हें पी वी चंद्रशेखर की अगुवाई में केंद्रीय मंत्रिमंडल का सदस्य बनाया गया था। हालांकि इसके बाद राजस्थान में कांग्रेस में अशोक गहलोत के बढ़ते प्रभुत्व के कारण उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन कर लिया।

जगदीप धनखड़ काफी तेजतर्रार नेता हैं जो अपने बेबाक विचारों के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के तौर पर इन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को कहीं बाहर फटकारा है और उनके विचारों की आलोचना भी की है।

इन्हें भी पढ़ें
1. द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय
2. कौन है नंबी नारायणन (Rocketry: the nambi effect)
3. भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी
4. महान वैज्ञानिक सत्येंद्र नाथ बोस का जीवन परिचय 

जगदीप धनखड़ की शिक्षा (Education)

जगदीप धनखड़ की प्रारंभिक शिक्षा साल 1962 में चित्तौड़गढ़ के सैनिक स्कूल से हुई है।

अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद इन्होंने जयपुर के महाराजा कॉलेज में बीएससी में दाखिला ले लिया जहां से इन्होंने 3 वर्ष के बीएससी कोर्स की डिग्री फिजिक्स विषय से प्राप्त की।

महाराजा कॉलेज से बीएससी की पढ़ाई पूरी करने के बाद इन्होंने राजस्थान यूनिवर्सिटी से एलएलबी की पढ़ाई की और साल 1978-79 में एलएलबी की डिग्री प्राप्त की।

जगदीप धनखड़ का परिवार, विवाह (Family Details)

जगदीप धनखड़ की पत्नी का नाम सुदेश धनखड़ है जिन्होंने साल 1979 में ही बनस्थली विद्यापीठ नाम के कालेज से इकोनॉमिक्स में मास्टर्स की डिग्री प्राप्त की। जगदीप धनखड़ की उनकी पत्नी से एक बेटी भी है जिसका नाम कामना धनखड़ है।

माता का नाम (Mother)केसरी देवी
पिता का नाम (Father)गोकल चंद
भाई (Brothers)रणदीप धनखड़, कुलदीप धनखड़
बहन (Sister)इंद्रा धनखड़
पत्नी का नाम (Wife)सुदेश धनखड़
बेटी का नाम (Daughter)कामना धनखड़
विवाह की तारीख1979
कुल सम्पत्ति (Net-Worth)1.5 Million $ (लगभग 10-12 करोड़)

जगदीप धनखड़ का राजनीतिक सफर –

  • जगदीप धनखड़ केवल राजनीति में ही नहीं बल्कि न्यायालय ने भी अपना सिक्का जमाया हुआ है। राजनीति में आने के पहले जगदीप धनखड़ सुप्रीम कोर्ट के जाने-माने वकील थे।
  • साल 1989 से लेकर सन 1991 तक यह अपने झुंझुनू विधानसभा से सांसद भी रहे।
  • इसी दौरान जगदीप धनखड़ को साल 1990 में संसदीय समिति के अध्यक्ष के रूप में चुना गया। साल 1990 में चंद्रशेखर भारत के प्रधानमंत्री थे। इस दौरान यह केंद्रीय मंत्रालय में भी रहे।
  • साल 1993 में यह राजस्थान के अजमेर जिले के किशनगढ़ विधानसभा से विधायक चुने गए और साल 1998 तक विधानसभा के सदस्य रहे।
  • लेकिन धीरे धीरे राजस्थान की राजनीति पर इनका प्रभाव कम होने लगा जिसके कारण वे इसी क्रम में यह भारतीय जनता पार्टी के साथ जुड़ गए और 20 जुलाई साल 2019 में इन्हें पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया।

आइये जानें भारत के गगनयान मिशन की खास बातें

जगदीप धनखड़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य –

  • जगदीप धनखड़ अपने गांव झुंझुनू के पहले ऐसे इंसान थे जिन्हें अंग्रेजी आती थी। वकालत की पढ़ाई पूरी करने के बाद जब यह अपने गांव वापस लौटे तो लोग दूर-दूर से इन से मिलने आए।
  • जगदीप धनखड़ को किसान पुत्र कहकर बुलाया जाता है क्योंकि इन्होंने बहुत से किसान आंदोलनों का नेतृत्व किया।
  • जगदीप धनखड़ भारत के पहले ओबीसी उपराष्ट्रपति होंगे। इससे पहले ओबीसी वर्ग का कोई भी उपराष्ट्रपति नहीं चुना गया था।
  • जगदीप धनखड़ सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया के जाने-माने वकील भी रह चुके हैं।
  • साल 2019 में यह पश्चिम बंगाल के राज्यपाल बने और वहां की सरकार से मतभेद होने के कारण इनका कार्यकाल काफी सुर्खियों में भी रहा।

बतौर राज्यपाल काफी चर्चा में रहे जगदीप धनखड़ –

पश्चिम बंगाल के मौजूदा राज्यपाल जगदीप धनखड़ जिन्हें एनडीए ने उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है वह राज्यपाल बनने के बाद से ही काफी चर्चा में रहे हैं।

दरअसल पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी में अच्छे संबंध नहीं है। ममता बनर्जी की सरकार के कई फैसलों पर जगदीप धनखड़ ने उनकी कड़ी आलोचना की है यही कारण है कि वहां के राज्यपाल और मुख्यमंत्री में आपस की नहीं जमती।

हाल ही में राज्य विश्वविद्यालयों का वास्तविक प्रमुख मुख्यमंत्री को बनाए जाने के मुद्दे को लेकर जगदीप धनखड़ ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को फटकार लगाई थी।

तो दोस्तों आज इस आर्टिकल के जरिए हमने जगदीप धनखड़ के जीवन और उनके राजनीतिक सफर से जुड़ी हुई बहुत से चर्चाएं की उम्मीद करते हैं यह आर्टिकल आया होगा।

FAQ

जगदीप धनखड़ कौन है?

जगदीप धनखड़ राजनीतिक दल गठबंधन एनडीए के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार हैं इसके साथ ही साथ वह पश्चिम बंगाल के राज्यपाल भी हैं। इतना ही नहीं जगदीप धनखड़ राजनीति के अलावा भारत के सुप्रीम कोर्ट के वकील भी रह चुके हैं।

जगदीप धनखड़ किस जाति व समुदाय से आते हैं?

जगदीप धनखड़ का जन्म राजस्थान के जाट परिवार में हुआ था और वह जाट हिंदू समुदाय से आते हैं। अपने राजनीतिक करियर में जगदीप धनखड़ ने जाटों के लिए बहुत से काम किए हैं और उनके विकास के लिए सतत प्रयास कर रहे हैं।

जगदीप धनखड़ की बेटी का नाम क्या है?

कामना धनखड़

जगदीप धनखड़ के कुल कितने भाई बहन हैं।

बहन इंद्रा तथा 2 भाई कुलदीप व रणदीप धनखड़ को मिलाकर चार भाई बहन हैं।

जगदीप धनखड़ किस पार्टी के सदस्य हैं?

वर्तमान में जगदीप धनखड़ भारत के सबसे मजबूत राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं। हालांकि इससे पहले उनका संबंध कांग्रेश से भी रहा है। वह साल 1990 में पी वी चंद्रशेखर की अल्पमत की सरकार में केंद्रीय मंत्री के पद पर रह चुके हैं। इस वर्ष होने वाले उपराष्ट्रपति के चुनाव में उन्हें एनडीए की ओर से उम्मीदवार घोषित किया गया है।

जगदीप धनखड़ की कुल सम्पत्ति(Net worth) क्या है?

लगभग 10-12 करोड़ रुपये

Homepage Click Here
Follow us on Google NewsClick Here

Leave a Comment