जेलीफ़िश के बारे में रोचक तथ्य | Amazing Facts about Jellyfish in hindi

आज के इस पोस्ट में (Amazing Facts about Jellyfish in hindi) हम ऐसे जीव के बारे में चर्चा करेंगे जो बड़ा ही अनोखा है। जिसका नाम तो जेलीफिश है परन्तु वो कोई फिश नहीं है। ये एक ऐसा जीव है जिसके हड्डियां नहीं है और ना ही इसके पास दिमाग मौजूद है। जी हां दोस्तों, आज हम ऐसे ही अनोखे जीव के बार में बात करने जा रहे हैं। जिसका नाम है जेली फिश (Jelly Fish).

आज हम jellyFish के बारे में सभी विषयों पर बात करेंगे और कुछ रोचक तथ्य भी देखेंगे। जिनको अगर आप ध्यानपूर्वक पढ़ते हैं एक आप भी चौंक जाएंगे। तो आइए जेलीफिश के बारे में पूरी जानकारी जानते है।

Jellyfish का वैज्ञानिक नाम Scyphozoa है। Jellyfish एक समुद्र में रहने वाला जीव है। Jellyfish लगभग हर एक समुद्र में सतह में पाई जाती हैं। लेकिन वहीं कुछ जेलीफिश ऐसी भी होती हैं, जो बिल्कुल साफ पानी में पाई जाती हैं।

कुछ बड़ी और रंगीन जेलीफिश भी होती हैं जो लगभग विश्व भर में सामान्यतः तटीय क्षेत्रों में पाई जाती हैं। जेलीफिश को अमेरिका जैसे देश के मछली घरों में जैली या समुद्री जैली के नाम से बुलाते हैं।

जेलीफिश के समूह को कभी कभी ब्लूम या झुण्ड भी कहते हैं। ब्लूम शब्द का प्रयोग आमतौर पर छोटे क्षेत्रों में इकठ्ठे होने वाले बड़े-बड़े समूहों के लिए प्रयोग में जाता है।

जेलीफ़िश के रोचक तथ्य (All Information and Facts about Jellyfish in hindi)

जेलीफ़िश का आकार

दोस्तों जेली फिश के साइज की बात करें तो, जेलीफ़िश हर एक आकार और प्रकारों में आती हैं। अधिकांश जेली फिश आधे इंच से लेकर लगभग 16 इंच तक होती है। हालांकि सबसे छोटी केवल एक मिलीमीटर चौड़ी होती हैं!  सबसे बड़ी जेली लायंस माने जेलीफ़िश (सायनिया कैपिलाटा) हैं, जो औसतन लगभग 3 फीट चौड़ी हैं।

जेलीफ़िश के शरीर की बनावट (Body Shape) 

जेली फिश की बॉडी शेप की बात करें तो, जहां जेलीफ़िश और मूंगा को पॉलीप आकार माना जाता है, वहीं जेलीफ़िश मेडुसा आकार में होती है। अगर मेडूसा की बात करें तो मेडुसा मुक्त तैरने वाली आकृतियाँ होती हैं जिनके शरीर के तल पर उनके जाल होते हैं। चूंकि वे चारों ओर घूमते हैं, इसलिए नव विकसित तंत्रिका तंत्र काम में आता है।

जेलीफ़िश के प्रकार (Name and Types of Jellyfish)

  • Moon Jelly
  • Box Jellyfish
  • Lion’s mane Jellyfish
  • Blue Jellyfish
  • Compass jellyfish
  • Barrel Jellyfish
  • Comb Jellies
  • Pelagia noctiluca
  • True Jellyfishes

जेलीफ़िश भोजन कैसे करती हैं?

सबसे पहले जेली फिश अपने शिकार को पंगु बना देती हैं। जिसको वो अपने अकशेरुकीय जाल की सहायता से करती है। जेली फिश के शरीर के एक दम बीचों बीच उसका मुख पाया जाता है जो छोटे आकार का होता है। जिसकी मदद से यह भोजन को अन्दर लेती है और बाहर भी निकालती है। जेली फिश अपने भोजन को बहुत जल्दी पचा लेती है।

जेलीफ़िश किससे बनी होती है?

दोस्तों अब बात करते हैं कि जेलीफिश किससे बनी होती है। तो दोस्तों यह तीन परतों से बनी होती हैं। एक बाहरी परत होती है जिसे एपिडर्मिस कहा जाता है, एक मध्य परत होती है जिसे मेसोग्लिया कहा जाता है, और एक आंतरिक परत होती है जिसे गैस्ट्रोडर्मिस कहा जाता है। एक प्राथमिक तंत्रिका तंत्र अथवा तंत्रिका जाल होती है जो जेलीफ़िश को सूंघने में, प्रकाश का पता लगाने और अन्य उत्तेजनाओं का जवाब देने की अनुमति देता है।

जेलीफ़िश का इंसानों पर प्रभाव:

दोस्तों वैसे तो अधिकतर जेलीफ़िश मनुष्यों के लिए हानिकारक नहीं होती हैं लेकिन फिर भी जेलीफ़िश की कुछ ऐसी प्रजातियां भी होती हैं जो कि मनुष्यों के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकती हैं। जैसे कि बॉक्स जेलीफिश, अगर ये किसी मनुष्य के पास आ जाए तो इसके प्रभाव से तेज दर्द शूरू हो जाता है।

जेलीफिश का दिमाग:

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दें की जेलीफिश में दिमाग नहीं होता है। इसके अलावा उसमें हड्डियां, ह्रदय और रक्त अथवा केंद्रीय तंत्रिका तंत्र भी नहीं होता है। लेकिन इसके बावजूद भी जेलीफ़िश अपनी नशों के द्वारा आसपास के वातावरण को महसूस करती है और काफी अनोखी जीव में से एक है।

जेलीफिश का जीवनकाल:

दोस्तों, अधिकतर जेलिफिश की आयु एक वर्ष से भी कम होती है। यानी कि 1 वर्ष तक ही जीवित रहती हैं। तथा कुछ जेली सबसे छोटी होती है जो केवल कुछ ही दिनों तक जीवित रह सकती हैं। हर एक प्रजाति का एक प्राकृतिक जीवन चक्र होता है। जिसमें जेलीफिश का रूप का जीवन चक्र केवल एक हिस्सा होता है।

जेलीफिश से सम्बंधित रोचक तथ्य (Interesting Facts About Jellyfish)

अब हम जेलीफिश से संबंधित रोचक तथ्य के बारे में जानेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं।

  • दोस्तों जैली फिश एक महत्त्वपूर्ण जीव है और कहीं न कहीं से हम मानवों के लिए भी फायदेमंद होता है। इसी कारण से हमें भी उनके हित के बारे में सोचना चाहिए।
  • आपको जानकर हैरानी होगी पृथ्वी पर डायनासोर रहने के लाखों वर्ष पहले जेलीफिश मौजूद हुआ करती थी।
  • आपको पता है, सफेद होते हैं लेकिन कुछ जेलीफिश लाल, गुलाबी आदि रंग के भी हो सकते हैं।
  • कुछ जेलीफिश बायोलुमिनसेंट भी हो सकते हैं जिसका अर्थ है कि वह अपना प्रकाश स्वयं पैदा करते हैं।
  • इस बात को जानने के बाद हर कोई आश्चर्य चकित हो जाएगा वो ये कि जेली फिश के पास दिमाग, दिल, हड्डियां और आंखे भी नहीं होती हैं। फिर भी वे अपना छोटा सा जीवन जीने में समर्थ होती हैं।
  • जेलीफिश अपने भोजन को बहुत जल्दी पचाने कि क्षमता रखती हैं।
  • दुनियाभर में कहीं कहीं संस्कृतियों में लोग इसे खाते हैं।
  • बाहर के देशों में जैसे चीन में जेलीफिश को चिकित्सा के रुप में प्रयोग किया जाता है।
  • जेलीफिश का एक डंक मानवों के लिए हानिकारक भी हो सकता है और कहीं कहीं पर तो जानलेवा भी हो सकता है। लेकिन एक बात ये भी है कि ये मानवों पर जानबूझ कर हमला नहीं करती हैं। ये तभी हमला करती हैं, जब मानव गलती से इनको छू लेता है।
  • कुछ प्रयोगों में भी जेलीफिश का प्रयोग किया गया है जिसके कारण उन्हें अंतरिक्ष में भी भेजा गया है। अभी तक कुल 60,000 से ज्यादा जेलीफिश अंतरिक्ष में जा चुकी हैं।
  • जेलीफिश लगभग लगभग पूरी तरह से पानी से बनी होती हैं।
  • बॉक्स जेलीफिश को दुनिया का सबसे खतरनाक समुद्री जैली फिश माना जाता है।
  • जेलीफिश के नाम में फिश है परन्तु वे मछली नहीं होती है।
  • जेलीफिश अपने भोजन के रुप में अन्य समुद्री जीवों को खा जाती हैं।
  • जेलीफिश की कुछ ऐसी प्रजातियां भी मौजूद है। जो अमर है मतलब कभी नहीं मरती है। इस जीव का यदि दो भागों में काट भी दें तो इससे दो जेलीफिश बन जाती हैं।
  • जेलीफिश का शरीर लगभग पूरी तरह पानी से ही बना होता है इसके शरीर का 98 प्रतिशत भाग पानी का बना होता है।

Conclusion

आज के इस लेख में हमने जेलीफिश (Amazing Facts about Jellyfish in hindi) के विषय में बात करी है। जो ऐसी जीव है, जिसके पास ना आंख है, ना दिमाग है और ना ही हड्डियां है फिर भी वे अमर है मतलब कभी नहीं मर सकती है। हम उम्मीद करते हैं आपको हमारा ये लेख पसंद आया होगा। यदि पसंद आया हो तो इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

Leave a Comment