Advertisements

मकड़ी के बारे में गजब की रोचक जानकारी | Amazing Facts about spider in hindi

दोस्तों आज हम आपकों एक ऐसे जीव के बारे में बताएंगे जिसकों आप सभी ने अपने घरों में देखा होगा। यह जीव लाखों करोड़ों सालों से इस पृथ्वी पर निवास करती आ रही है। जी हां दोस्तों आज के इस लेख (facts about spider in hindi) में हम मकड़ी से जुड़े रोचक तथ्य के बारे में बात करेंगे।

मकड़ी का नाम सुनते ही बच्चे तो बच्चे बड़ों के मन में एक अजीब सा डर बना ही रहता है। आज हम इनके बारें में कुछ रोचक जानकारी बताएंगे जिसे सुनकर आप चौक जाओंगे। आपको यह तो पता होगा कि मकड़ी के आठ पैर होते है लेकिन क्या आपको पता है कि ज्यादातर मकड़ियों की एक दो नहीं बल्कि आठ आंखे होती है।

दोस्तों मकड़ी एक ऐसा जीव है जो हमारें पर्यावरण में संतुलन बनाने के लिये बहुत उपयोगी सिद्ध होता है क्या आपको पता है एक एकड़ के क्षेत्र में लगभग 10 लाख मंकड़िया होती है और एक मकड़ी एक साल में दो हजार से भी अधिक कीड़े खा लेती है। अगर ये इनको न खाये तो इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि पृथ्वी पर इतने कीड़े हो जाएंगे कि वह हमारे पर्यावरण में मौजूद वनस्पति फसलों, पेड़ों, फूलों को बरबाद कर देंगे। आगे हम मकड़ी से जुड़ी बहुत सारी रोचक व महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहे है।

Advertisements

मकड़ी से जुड़े रोचक तथ्य (Facts about spider in hindi)

मकड़ी की पूरे दुनिया में 45000 से भी ज्यादा प्रजातियां खोजी जा चुकी है, जिनमें कुछ छोटी वा कुछ बड़ी होती है, दोस्तों मकड़ी की इन प्रजातियों में कुछ ही जहरीली होती है मकड़ियों की अलग-अलग तरह प्रजातियों में कुछ की आठ आंखें, कुछ की 12 आंखें होती है कुछ की तो आंखें ही नहीं होती है। जीव विज्ञान में मकड़ियों को बिच्छुओं के वर्ग में रखा गया है।

मकड़ी के शरीर को दो भागो में बांटा जा सकता है पहले में सिर और छाती तथा दूसरे भाग में पेट आता है। इनकों कीटों से अलग वर्ग में रखा गया है। कीडों के छः पैर होते है जबकि इनके 8 पैर होते है। मकड़ी के एंटिना व पंख भी नहीं होते है।

Facts-about-Spider-Facts-in-hindi

मकड़ी के बारे में रोचक जानकारी (Facts about spider in hindi)

1. मकड़ी के खून का रंग नीला होता है। इसका प्रमुख कारण इनके खून में लोहे की जगह तांबे का एक परमाणु मिला होता है और जब यह ऑक्सीजन के साथ युक्त होकर शरीर में प्रवाहित होता है तब इसका रंग नीला हो जाता है।

2. आपको जानकर हैरानी होगी पूरी पृथ्वी पर लगभग 3 करोड़ टन मकड़ियां मौजूद होने का अनुमान है और यह आबादी के मामले में 7वे नंबर पर आती है।

3. दुनिया में मकड़ी की एक प्रजाति ऐसी भी है जो बिल्कुल ही शाकाहारी है इस मकड़ी का नाम bagheera kiplingi है।

4. मकड़ी की कुछ प्रजातियां 7 प्रकार के रेशम का निर्माण करने में सक्षम होती है। जिसमे प्रत्येक रेशम अलग अलग प्रकार का होता है। कोई खीचाव वाला, कोई चिपचिपा, तो कोई सूखा।

5. मकड़ियों अपने शिकार को चबा-चबा कर खा नहीं सकती है इनके दांत तो होते नहीं है लेकिन यह किटों में अपना जहर डाल (इंजेक्ट) देती है इसके बाद वह उसे अपने मुंह में रखकर किट के पोषक तत्वों को चूस लेती है और बाकी बचे शरीर को निगल जाती है।

6.  अगर मकड़ी के शरीर से निकले रेशम व धागे से एक सेंटीमीटर मोटी रस्सी बनाई जाये तो यह दुनियां की सबसे मजबूत रस्सी होगी।

7. मकड़ी के काटने से किसी इंसान की मृत्यु हुई हो ये खबर आखिरी बार ऑस्ट्रेलिया से आई थी। यह घटना 1981 की है।

8. मकड़ी की उम्र की बात करें तो यह कम से कम एक से दो वर्ष और अधिकतम 20 वर्ष तक भी जी सकती है।

9. ब्लैक विडो नाम की मकड़ी की एक ऐसी प्रजाती है जो सम्भोग करने के बाद अपने साथी को ही मारकर खा जाती है। मादा मकड़ी एक बार में 3000 अंडे देती है।

10. दुनियां की सबसे खतरनाक और बड़ी मकड़ियों में Goliath Birdeater गोलियत मकड़ी का नाम प्रमुख है। इसकी लंबाई 1 फुट तक हो सकती है। इसके पैर 1 से डेढ़ इंच तक बडे हो सकते है।

यह मुख्य रुप से दक्षिण अमेरिका के जंगलों में पायी जाती है। इसका मुख्य खाना पक्षी और छिपकली, चूहे मेढ़क और सांप तक का शिकार कर लेती है।

11. पातु मरप्लेसी (Patu marplesi) विश्व की सबसे छोटी मकड़ी है। इसका आकार केवल एक पेंसिल की नोक जितना बड़ा है।

12. आपको जानकर हैरानी होगी कि कुछ मकड़ियां चींटियों से बहुत डरती है। इसका प्रमुख कारण चिटियों में फार्मिक एसिड (formic acid) पाया जाना है।

13.  मकड़ी की कुछ प्रजातियां ऐसी भी होती है जिनकी 2 से लेकर 8 आंखे होती है। किसी की 2 किसी की 4 तो किसी की 6 तो किसी की तो आंखें ही नहीं होती है।

14. जम्पिंग स्पाइडर अपने शरीर से 50 गुना अधिक ऊंचा कूद सकती है। यह अपने शिकार को पकड़ने के लिये छलांगकर झपटा मारती है।

15. Darwin Bark Spider दुनियां का सबसे मजबूत और सबसे बड़े जाला बनाने के लिये जानी जाती है। वैज्ञानिकों ने इस मकड़ी की खोज सन 2009 में मेडागास्कर के जंगलों में की थी। इसने 25 मीटर लंबा जाला बना रखा था ।

16. Trap Door Spider ट्रेप डोर स्पाईडर एक ऐसी मकड़ी है जोकि जमीन में बिल बनाती है और जीवनभर इसी बिल में रहती है। यह मकड़ी अपने बिल में एक दरवाजे का भी निर्माण करती है और जरा सी हलचल होने पर यह बिल से बाहर आती है और कीटों पर झपटामार कर अपने बिल में ले जाती है। यह अमेरिका, अफ्रीका, जापान और आस्ट्रेलिया में मिलती है।

मकड़ी अपने जाल में खुद क्यों नहीं चिपकती?

आप सब के मन में भी ये सवाल आया होगा कि मकड़ी अपने बुने जाल में खुद क्यों नहीं चिपकती वो इसलिए क्यूंकि मकड़ी का पूरा जाल चिपकने वाला नहीं होता है। जी हां दोस्तों देखिए यह जीव बहुत ही चालाक होता है ।

यह अपने जाल में कुछ ही हिस्सों को चिपचिपा बुनती है और बाकी हिस्से को बिना चिपचिपा पदार्थ से बनाती है। ताकि वहां पर मकड़ी आसानी से चल सके और उस जाल में न फंसे। इसके अलावा मकड़ी जाल में ना फसने की  एक और तरकीब निकलती है वो ये कि मकड़ियां अपने पैरो को रोजाना अच्छे से साफ करती है। जिससे इसपर लगी धूल और बाकी के दूसरे कन भी निकाल जाए।

मकड़ी जाल कैसे बनाती है?

मकड़ी शिकार करने के लिये जाला बनाती है। मकड़ी के शरीर के पिछले हिस्से में सिल्क गेलेंड नामक ग्रन्थि मौजूद होती है जिसमें से यह तरल पदार्थ निकलता है जैसे ही यह हवा के संपर्क में आता है तो शक्त हो जाता है और तार की खिंचता चला जाता है।

इसी से मकड़ी रेशम बनाती है और ये 7 प्रकार के रेशम बना सकती है इस तार की मोटाई 0.003 होती है।

इन्हें भी पढ़ें -
> आइये जाने तोते के बारे में रोचक एवं महत्वपूर्ण तथ्य
> दुनियां की सबसे खतरनाक मकड़िया
> 10 करोड़ साल का अमर केकड़ा (Amber Crab Facts in hindi)
> समुंद्र में तैरता पॉवर हाउस इलेक्ट्रिक इल से जुड़े कुछ रोचक तथ्य
> पैंगोलिन ( सल्लू सांप ) के बारे में रोचक जानकारी इससे बनती बुलट प्रूफ जाकेट
> पोर्क्युपाईन – साही जानवर के बारें में रोचक तथ्य
> इसके पास ना तो हड्डियां है और ना ही दिमाग आइये जाने जेलीफ़िश के बारे में रोचक जानकारी

मकड़ी के काटने से क्या होता है?

मकड़ियों की अधिकतर प्रजातियां जहरीली नहीं होती है लेकिल कुछ के काटने से उस जगह पर लाल धब्बा पड़ जाता है और लाल रंग के छोटे छोटे दाने भी निकाल आते हैं।

दुनिया में तरह-तरह की मकड़ियों की प्रजातियां मिलती है जिसमें से कुछ का जहर मनुष्य के लिये काफी खतरनाक होता है । मकड़ी के काटने से मनुष्य को उलटी भी हो सकती है और उसके पूरे शरीर में इन्फेक्शन भी फैल सकता है, तथा जिस जगह पर मकड़ी ने काटा है वो जगह भी सुन्न हो सकती है।

इसके अलावा अगर मकड़ी अधिक जहरीली हो तो इसके काटने से उस इंसान की जान भी जा सकती है। वैसे भी दुनियां में बहुत कम ही घटनाएं हुई है जब किसी मकड़ी के काटने से किसी इंसान की मृत्यु हुई हो। दुनिया में मकड़ियों की 30 प्रजातियां मिलती है जोकि मनुष्य के लिये खतरनाक होती है। आइये नीचे जानते है

दुनियां की कुछ खतरनाक मकड़िया (World most dangerous spider in hindi)

1. वुल्फ मकड़ी (Wolf Spider)

ये ज्यादातर अमेरिका और यूरोप में पायी जाती है। इसकी विश्व में 125 ज्ञात प्राजातियों की पहचान हुई है। , इसकी तेज चलने की खूबी के लिए इसे (Wolf Spider) कहते है। यह जम्प लगाकर अपने शिकार को जकड़ लेती है। अगर यह किसी को काट ले तो असहनीय दर्द व जलन होने लगती है इसके काटंने पर तुरंत डॉक्टरी इलाज करना चाहिये।

2. ऑस्ट्रेलियाई फनल वेब (Austrilian Funnel Web)

यह मकड़ी इतनी खतरनाक होती है कि किसी भी मनुष्य को 15 मिनट में ही मौत दिखा देती है। यह ऑस्ट्रेलियां में मिलती है। इस प्रजाति की नर मकड़ी का जहर मादा मकड़ी से अधिक खतरनाक होता है। इसका साइज 1 से 5 सेमी तक होता है। यह नीले काले और भूरे रंग की होती है।

3. रेड ब्लैक स्पाइडर (Red Black Spider)

इसके पीठ पर एक लाल रंग का चौड़ी लाइन व पट्टी होती है जिससे इसे रेड बैक मकड़ी कहते है। इसकी लबांई 2-5 सेमी होती है। यह अमेरिका व कनाड़ा में पायी जाती है। यह मकड़ी नर मकड़े के साथ संबंध बनाकर मादा स्पाइडर अपने पार्टनर को ही खा जाती है। इसके काटने से पूरी बॉडी सुन्न हो जाती है और एक असहनीय दर्द होता है।

4. ब्राजीलियन वंडरिंग स्पाइडर (Brazilian wandering spider)

ये मकड़ी ब्राजील मे पायी जाती है और इसका न्यूरोटॉक्सिन जहर सबसे ज्यादा खतरनाक है। यह ज्यादा तर फलो के पेड़ो पर रहना पसंद करती है, ये इधर उधर जाती रहती हैं इसलिए इसका नाम वंडरइंग मकड़ी है। इसकी लम्बाई भी 6-6 इंच तक होती है और ये 2 मिनट मे ही अपने शिकार को मार सकते है। अगर यह किसी को काट ले तो इससे तेज असहनीय दर्द व साँस लेने में दिक्कत हो सकती है। (Source)

FAQ

प्रश्न- मकड़ी के कितने पैर व घुटने होते है?

उत्तर- मकड़ी के आठ पैर और 48 घुटने होते हैं। इसके आठ पैरों में छः जोड़ होते है।

प्रश्न- मकड़ी का खून नीला क्यों होता हैं?

उत्तर- मकड़ी के खून में हिमोग्लोबिन की जगह हेमासायनिन नामक यौगिक होता है यह इसमें लोहे की जगह तांबा का एक परमाणु ऑक्सीजन के साथ मिलकर मकड़ी का खून नीला बना देता है।

प्रश्न- मकड़ी के जाला बनाने वाली ग्रंथि का नाम क्या है?

उत्तर- मकड़ी के शरीर के पिछले हिस्से में स्पाइडर सिल्क ग्रेन्ड नाम की ग्रन्थि होती है।

Leave a Comment