Goldfish का साइंटिफिक नाम क्या है? | All information and Facts about Goldfish in hindi

Goldfish का साइंटिफिक नाम क्या है? (Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai) एवं सुनहरी मछली के बारे में पूरी जानकारी। Goldfish के बारे में रोचक जानकारी (Interesting Facts about Goldfish in hindi)

नमस्कार पाठकों आज के इस लेख में हम ऐसी जीव के बारे में चर्चा करेंगे जिसकी पलके नहीं होती है। इसी कारण से उसकी आँखे सदैव खुली होती है। जी हां दोस्तो आज हम गोल्डफिश के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

हम सभी को पता है हमारी पृथ्वी का 75 प्रतिशत भाग पानी के स्रोतो से घिरा हुआ है इनमें लाखों करोड़ो जीव पाए जाते है आज हम मछलियों में सबसे आर्कषक जीव गोल्डफिश के बारें में जानेंगे इसे सुनहरी मछली के नाम से भी जाना जाता है दोस्तों क्या जानतें हो Goldfish कोे दुनियाँ में सबसे अधिक पालना पसंद किया जाता है।

Goldfish अपने सुनहरे रंग के कारण बहुत ही ज्यादा चर्चा में रहती है, तथा लोगों का मनमोह लेती है।

आज के लेख में हम आपको बताएंगे कि Goldfish की विशेषता क्या होती है? Goldfish कहां से आती है? Goldfish का साइंटिफिक नाम क्या होता है? Goldfish कितनी बड़ी होती है? Goldfish क्या खाती है? Goldfish किस पानी में रहती है? Goldfish के बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

Goldfish एक तरीके से मीठे पानी की मछली होती है, लेकिन ये खारे पानी में भी देखने को मिलती है। यह देखने में पीले रंग की और सुनहरे रंग की होती है और विभिन्न प्रकार के रंगों में पाई जाती है। Goldfish एक छोटी मछली होती है लेकिन यदि इसका ठीक से ख्याल रखा जाए तो यह 1 फीट तक बड़ी हो सकती है। समुद्र में पाए जाने वाली सबसे मनमोहक मछलियों की प्रजाति में Goldfish का नाम भी शामिल है।

Goldfish का साइंटिफिक नाम क्या है

गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम क्या है? (Goldfish Scientific name in hindi )

Goldfish का वैज्ञानिक नाम “कैरेसियस ऑराटस” Carassius Auratus  है और Goldfish का यह साइंटिफिक नाम इसे अपने रंग के कारण मिला है। Goldfish दिखने में इतनी प्यारी होते हैं कि लोग इसे अक्सर अपने घर में पालते हैं। कुछ लोग कहते हैं इसका घर में देखा जाना बड़ा ही शुभ होता है, इसलिए लोग इसे घर इसे पालता बहुत पंसद करते हैं। यह देखने में बड़ी प्यारी होती है तथा यह कांच के एक्वेरियम में मिल जाती है। इसे गोल्डन क्रूसियन कॉर्प Crucian carp के नाम से भी जाना जाता है।

लोगों को Goldfish देखने के बाद मुझे पाने का बड़ा मन करता है, इसीलिए लोग अक्सर Goldfish को थैली में डाल कर के अपने घर ले आते हैं। तथा अपने कांच के एक्वेरियम में छोड़ देते हैं। Goldfish को पालने के लिए Goldfish के अनुसार वातावरण बनाना होता है, और वह Goldfish अपने अनुकूल वातावरण में ही जीवित रह पाती है। इसके लिये एक्वेरियम में 18 से 26 डिग्री से. का तापमान उचित माना जाता है। पानी के तापमान में बदलाव करना इस सुंदर जीव के लिये घातक हो सकता है।

गोल्डफिश का साइंटिफिक वर्गीकरण (Goldfish Scientific Classification and basic Information in Hindi)

गोल्डफिश का हिंदी नामसुनहरी मछली
गोल्डफिश वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)कैरेसियस ऑराटस
इग्लिश नामGoldfish
जातिकैरेसियस (Carassius)
अन्य नामगोल्डन क्रूसियन
औसत उम्र5 से 6 साल (Max 20 to 40)
पानी का तापमान10 से 26 डिग्री C
प्रजनन का समयअप्रैल-मई
लंबाई5 इंच या अधिकतम 20 cm
भोजनशैवाल, लार्वा, कीट, मच्छर (सर्वाहारी)
निवास स्थानमीठा पानी
मूल स्थानचाइना
PH Level6.5 to 8.5
वजन (Weight)4.5 kg

Goldfish क्या-क्या खाती है?

Goldfish शाकाहार और मांसाहार दोनों करती है। Goldfish के मुख्यतः समुद्र में लगने वाले छोटे पौधे, अपने से छोटे मछलिया, व् जीवो के लारवा तथा समुद्री कीड़ों, कीटो एवं मछरों के लारवा को खाती है। एक्वेरियम में पलने वाली Goldfish बाजार में मिलने वाले मछलियों के खाने को खाकर के जीवित रह सकती है।

जो भी व्यक्ति Goldfish को पाने के लिए अपने घर में लाता है वह व्यक्ति इसे विभिन्न प्रकार के खाने के सामान देता है, जैसे कि पालक, मटर, खीरा, गाजर, सेव, तरबूज, अंगूर, संतरा, इत्यादि यह मछली सर्वाहारी होती है और यह सभी प्रकार के फलो, सब्जियों को खा सकती है घरों में पलने वाली गोल्डफिश को उचित मात्रा में सीमित भोजन देना चाहिये।।

Goldfish कहां पाई जाती हैं?

गोल्डफिश मीठे और खारे पानी में पाई जाती है। नदियों में, तालाबों में, तथा समुद्र में भी पाई जाती है। इसकी उत्पत्ति के बारें में बात करें तो जानकारी के अनुसार इसे 1700 शताब्दी में चीन में मिली थी। यह सामान्य तौर पर यूरोप के ठंडे पानी की झीलों में पाई जाती है। इसके लिये अनुकूल वातावरण की बात करें तो यह समशीतोष्णीय जलावायु के क्षेत्रें में मिलती है।

यूरोप के बाद में यह इंग्लैंड में देखी गई थी। और इंग्लैंड से यात्रा करते हुए इसे अमेरिका में लिखा गया था। अमेरिका में जाने के बाद में यह पूरी दुनिया में ही फैल गई और आज के समय यह छोटे तालाब, पोखर झील तथा नदियों में पाई जाती है। इसका सबसे मुख्य स्थान समुद्र है यह मीठे और खारे दोनों पानी में जीवित रह सकती है।

Goldfish की आकृति और रंग

Goldfish मुख्य तहत 15 सेंटीमीटर बड़ी होती है, लेकिन इसके पंख इसके शरीर से ज्यादा बड़े होते हैं, इसलिए यह दिखने में और भी ज्यादा सुंदर लगती है, यह पानी की पंछी जैसी लगती है।

एक Goldfish मुख्य तौर पर 6 से 7 साल तक जीवित रहती है। लेकिन यदि इससे अच्छा वातावरण और अच्छा खाना मिले तो यह तकरीबन 30 से 40 साल तक जिंदा रह सकती है। यह 30 से 40 साल से ज्यादा जिंदा नहीं रह सकती है।

अक्सर मांसाहारी Goldfish ज्यादा समय तक जीवित रहती है।

Goldfish को रहने के लिए तकरीबन 18 डिग्री सेंटीग्रेड से लेकर 20 डिग्री सेंटीग्रेड तक के तापमान का पानी चाहिए होता है, यह मीठे व् खारे पानी दोनों में रह सकती है, लेकिन खराब पानी में नहीं रह सकती है, बिल्कुल भी नहीं रह सकती। पानी के खराब हो जाने के कारण या फिर उस में अम्ल की मात्रा ज्यादा हो जाने के कारण Goldfish मर सकती है।

Goldfish विभिन्न प्रकार के रंगों में भी उपलब्ध होती है जैसे कि लाल रंग में, पीले रंग में, नीले रंग में, बैंगनी रंग में, काले रंग में और सफेद रंग में। तथा ऐसे ही कई अन्य रंगों में पाई जाती है।

> तोते की दुनियाभर में कितनी प्रजातियां पाई जाती है?

> ऐसा पक्षी जो कभी जमीन पर पैर नहीं रखता?

> समुंद्र में तैरता पॉवर हाउस 

गोल्डफिश कितने प्रकार की होती है?

Goldfish के आकार और उसके शरीर की बनावट को देखा जाए तो Goldfish के बहुत सारे प्रकार होते हैं सामान्य गोल्डफिश की 300 से सभी अधिक प्रजातियां पाई जाती है। इनमें से कुछ महत्वपूर्ण और सबसे अधिक पाली जाने वाली गोल्डफिश के बारें में बताएंगे।

1. सामान्य गोल्डफिश2. सेलेशियल आई
3. शुम्बुकिन4. ओरानडा
5. लायनहेड6. टेलिस्कोप आई
7. पोम्पोम गोल्डफिश8. बबलआई गोल्डफिश
9. बटरफ्लाई टेलिस्कोप10. पांडा मूर
11. काले मूर12. वेलटेल
13. अंडा मछली सुनहरी14. कॉमेट गोल्डफिश
15. घुमावदार गिल गोल्डफिश16. रैनचु
17. सफेद टेलीस्कोप18. टोसाकिन

Goldfish के बारे में रोचक जानकारी (Interesting Facts about Goldfish in hindi)

Goldfish के बारे में कई ऐसे रोचक तथ्य है।  

  • Goldfish एक ऐसी छोटी मछली है जो खारे और मीठे पानी पर जिंदा रह सकती है।
  • Goldfish विभिन्न प्रकार के रंगों में पाई जाती है।
  • Goldfish के शरीर की आकृति से इसे पहचाना जा सकता है।
  • यह एक ही प्रकार की आकृति के विभिन्न वर्गों के पाई जा सकती है।
  • गोल्डफिश के दांत उसके मुंह में न होकर गले के पीछे की साइड में होते हैं।
  • सभी जीव जीभ से स्वाद चखते है इसके विपरीत गोल्डफिश जीभ सें नहीं बल्की अपने होठों से इसका अनुभव करती हैं।
  • आपको जानकार हैरानी होगी गोल्डफीश के पेट होता ही नहीं है पालतू गोल्डफीश को खाना-खिलाते समय यह बात ध्यान रखें कि इसे जल्दी पचने वाला खाना ही दे और आवश्यता से अधिक खाना कभी न दे।
  • गोल्डफिश अल्ट्रावाइलेट और निफ्रारेड तरंगों को देख सकती है।
  • गोल्डफिश की याददाश्त बहुत तेज होती है यह किसी भी चीज को तीन महिने तक याद रख सकती है।
  • Goldfish के बारे में एक बात बड़ी रोचक है वो ये कि अगर इन्हे कुछ भी खाने को ना मिले तो भी ये 3 सप्ताह तक जिंदा रह सकती है।
  • Goldfish की पलकें नहीं होती है इसकी वज़ह से उसकी आंखे हमेशा खुली होती है।
  • आपको जानकर हैरानी होगी ये मछली कम से कम 30 लीटर पानी में रहती है, इससे कम पानी अगर हो तो ये  जिंदा नहीं रह पाती है।
  • यदि इसका खास ख्याल रखा जाए, तो यह 33 से लेकर 40 वर्षों तक जिंदा रह सकती है।
  • इसकी सबसे अधिक प्रजाति चीन में पाई जाती है, और अजीब बात ये भी है कि इसको चीन में खाया भी जाता है। लेकिन भारत जैसे देशों में Goldfish को पाला जाता है क्योंकि यह एक सजावट के तौर पर उपयोग की जाती है। (source)

निष्कर्ष

तो आज के इस लेख में हमने Goldfish का साइंटिफिक नाम क्या है? Goldfish क्या खाती है? एवं इसके बारे में पूरी जानकारी दी है। हम आशा करते हैं कि Goldfish के संबंध में आपको कोई भी सवाल बाकी नहीं रहा होगा। यदि आपको आज का यह लेख पसंद आया हो तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

FAQ

गोल्डफिश को हिंदी में क्या कहा जाता है?

सुनहरी मछली / शाही मछली

गूगल गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम (Scientific Name) क्या होता है?

कैरेसियस ऑराटस

गोल्डफिश की कितनी नस्ल (प्रजाति) हैं?

चाइना द्वारा लगभग 300 प्रजातियों कि पहचान की गई है इसकी मुख्य सभी नस्लों की पहचान चीन से की गई है।

पालतू गोल्डफिश/सुनहरी मछली को दिन में कितनी बार खाना देना चाहिये

इसको दिन में एक से दो बार ही खिलाना चाहिये। इन्हें पेटभर से अधिक खाना न दें। अधिक भोजन इनके स्वास्थ्य बिगाड़ सकता है।

Leave a Comment