Advertisements

संविधान दिवस 26 नवंबर के ही दिन क्यों मनाया जाता है आइये जानें इसकी महत्वपूर्ण व खास बातें | History and Facts of Indian Constitution Day in hindi

नमस्कार दोस्तों स्वागत है हमारे वेबसाइट पर आज की पोस्ट (Facts of Indian Constitution Day in hindi) में हम बात करेंगे संविधान दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?  क्यों मनाया जाता है जैसा कि आप जानते हैं कि 26 नवंबर को भारत में संविधान दिवस काफी हर्षोल्लास और धूमधाम के साथ मनाया जाता हैI  सबसे बड़ी बात है कि भारत का संविधान सबसे बड़ा लिखित संविधान है और भारत संविधान का निर्माण डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के द्वारा किया था यही वजह है कि डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को संविधान का जन्मदाता कहा जाता हैI इस दिन देश में भिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिसमें लोगों को संविधान दिवस के महत्व और उसके इतिहास के बारे में व्यापक जानकारी दी जाती है अब आपके मन में सवाल आता है कि 26 नवंबर को ही संविधान दिवस मनाया जाता है और आखिर इस दिन ही संविधान दिवस मनाने के क्या कारण है अगर आप उसके बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं तो हमारे साथ आर्टिकल पर बने रहिए चलिए शुरू करते हैI 

History and Facts of Indian Constitution Day in hindi | Savidhan-Diwas-kyu manaya jata hai

संविधान दिवस 2022 में कब है?

26 नवंबर को पूरे भारत में संविधान दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा इस दिन देश के विभिन्न जगहों पर कई प्रकार सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे जिसके माध्यम से लोगों को भारतीय संविधान के प्रत्येक पहलू के बारे में व्यापक जानकारी दी जाएगी ताकि लोगों को भी मालूम चल सके कि भारत का संविधान कैसे और किस प्रकार बनाया गया थाI

Advertisements

संविधान दिवस क्या है?

26 नवंबर को हमारा संविधान पूर्णरुप से बनकर तैयार हो गया था और इसी दिन इस प्रारुप को संविधान के रुप में स्वीकृति प्रदान की गई। हमारे संविधान में सभी धर्माे के नागरिकाें को समान दर्जा दिया गया है। यह किसी भी देश के संविधान से अब तक का सबसे लंबा लिखित संविधान है।

संविधान दिवस संविधान बनाने के उपलब्ध में मनाया जाता है जैसा कि आप जानते हैं कि भारत 15 अगस्त 1947 को 200 वर्षो की गुलामी के बाद आजाद हुआ जब देश आजाद हुआ तो उस समय के नेताओं को इस बात का एहसास हुआ कि देश को चलाने के लिए एक संविधान की जरूरत है जिसके मद्देनजर डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद की अध्यक्षता में संविधान कमेटी की घटना की गई जिसके प्रमुख डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को बनाया गया और उन्हें ही संविधान बनाने की जिम्मेदारी दी गई डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने भारतीय संविधान को 2 साल 18 महीने 9 दिन में बना कर तैयार किया और फिर 26 जनवरी 1950 को भारत में संविधान को लागू किया गया जिसे हम लोग गणतंत्र दिवस के रुप में मनाते हैंI

2015 में देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने बाबा भीमराव अंबेडकर की 125 वीं वर्षगांठ के उपलक्ष में इस बात की घोषणा की कि भारत में 26 नवंबर को अब से गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाएगा तभी से भारत में गणतंत्र दिवस मनाने की परंपरा शुरू हुईI

आइये जानें- संविधान के निर्माण में भीमराव अंबेडकर का क्या योगदान था?

संविधान दिवस क्यों मनाया जाता है?

संविधान दिवस क्यों मनाया जाता है तो हम आपको बता दें कि भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था लेकिन जब देश आजाद हुआ तो संविधान बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई और संविधान बनाने का काम डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जो भारत के प्रथम कानून मंत्री थे उनके द्वारा किया गया था भारतीय संविधान को बनाने में 2 साल 11 महीने 8 दिन का समय लगा था जब भारत का संविधान बनकर तैयार हुआ तो उसे भारत में लागू कर दिया गया जिसके बाद भारत एक लोकतांत्रिक देश बन गया और भारत में प्रशासन की व्यवस्था लोकतांत्रिक तरीके से संचालित होने लगी सबसे महत्वपूर्ण बातें कि भारत का संविधान सबसे बड़ा लिखित संविधान है भारत के संविधान में सभी धर्म और जाति वर्ग के लोगों को एक समान नजर से देखा गया है संविधान के नजर में ना कोई बड़ा है और ना ही कोई छोटा है प्रत्येक नागरिक को एक समान अधिकार दिए गए हैं I

इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि देने के लिए 26 नवंबर को भारतीय संविधान दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की क्योंकि डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के द्वारा ही भारतीय संविधान को बनाया गया है आज की तारीख में जिस प्रकार युवा सोशल मीडिया पर अपना समय बर्बाद करते हैं उनको यह भी मालूम नहीं है कि भारतीय संविधान में क्या-क्या अधिकार उनको प्राप्त है इसलिए युवाओं को जागरूक करने के उद्देश्य से ही संविधान दिवस मनाने की परंपरा शुरू की गई क्योंकि युवा देश के भविष्य हैं और जब देश का भविष्य उज्जवल होगा तभी देश हमारा उन्नति के पथ पर अग्रसर हो पाएगाI

संविधान दिवस कैसे मनाया जाता है?

इस दिन देश प्रधान मंत्री, कैबिनेट मंत्री एवं प्रमुख राजनेता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के स्मारक स्थल पर जाकर उन्हें श्रद्धा के सुमन अर्पित करते हैं इसके अलावा संविधान दिवस के दिन स्कूल कॉलेज यूनिवर्सिटी और जितने भी शिक्षण संस्थान है वहां पर डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है क्योंकि डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने भारतीय संविधान का निर्माण किया था और उन्हें भारतीय संविधान का जनक भी कहा जाता है इसके अलावा स्कूलों में कई प्रकार के प्रकार के भाषण वाद विवाद प्रतियोगिता निबंध लेखन जैसे कार्यक्रम आयोजित की जाती हैI जिसमें छात्र बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं और सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्रों को पुरस्कृत भी किया जाता हैI इसके अलावा देश में कई प्रकार के संस्कृति कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिसमें लोगों को संविधान के बारे में जागृत करने का काम किया जाता हैI

क्योंकि भारतीय संविधान अपने आप में भारतीय शासन व्यवस्था का मूल तंत्र है इसके माध्यम से ही देश में शासन व्यवस्था का संचालन होता है इसके अलावा आम नागरिक को संविधान के द्वारा कई प्रकार के मौलिक अधिकार दिए गए हैं उन मौलिक अधिकारों के बारे में लोगों को अवगत करवाना इस संविधान दिवस का प्रमुख उद्देश्य है I

भारतीय संविधान की विशेषताएं एवं खास बातें (Important Facts of Indian Constitution Day in hindi)

  • भारत का संविधान सबसे बड़ा लिखित संविधान हैI
  • भारत के संविधान को बनाने का काम डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने किया थाI
  • संविधान को 26 नवंबर 1949 को अपनाया गया थाI
  • भारत के संविधान को 26 जनवरी 1950 को लागू किया गयाI
  • भारत का संविधान बनाने में कुल 63,96,729 रुपए का खर्चा थाI
  • संविधान सभा के सदस्य भारत के सभी राज्य प्रांतों के इलेक्ट मेंबर के द्वारा चुने गए थे
  • संविधान सभा के मुख्य सदस्य के रूप में डॉ राव आंबेडकर, पंडित जवाहरलाल नेहरू, सरदार बल्लव भाई पटेल, डॉ राजेंद्र प्रसाद, मौलाना अबुल कलाम आजाद, श्यामा प्रसाद मुखर्जी इत्यादि प्रमुख सदस्य थे।
  • हमारे संविधान को प्रेम बिहारी रायजादा जी द्वारा अपने हाथों से सुंदर कैलिग्राफी में लिखी गई थी।
  • संविधान सभा में कुल 389 सदस्य थे लेकिन जब देश का बंटवारा हुआ तो उस समय केवल 299 हो गए I
  • संविधान सभा के ड्राफ्टिंग कमिटी के चेयरमैन डॉक्टर भीमराव अंबेडकर थे।
  • संविधान सभा का अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद को बनाया गया था I
  • भारतीय संविधान में कुल मिलाकर 395 अनुच्छेद 22 भाग गए और 8 अनुसूचिया बनाई गई थी लेकिन आज की तारीख में इसकी संख्या बढ़कर ज्यादा हो गई है आज 465 अनुच्छेद 25 भाग और 12 अनुसूचियां हो गई है I
  • जब संविधान का निर्माण किया गया तो उस समय स्थानिक सलाहकार बीएन राव थेI

आइये इन्हें भी जाने-

FAQ

भारत का संविधान कब बनकर तैयार हुआ?

26 नवंबर 1949

संविधान सभा में कितने लोग थे?

संविधान सभा में कुल 389 सदस्य थे लेकिन बंटवारे के बाद उनकी संख्या 299 हो गईI

भारतीय संविधान सभा का प्रथम अधिवेशन कब हुआ?

9 दिसंबर 1946 ईस्वी

संविधान का निर्माण करने वाला कौन था?

संविधान के निर्माण के लिये एक समिति का गठन 29 अगस्त 1947 को किया गया था इस कमेटी का नेतृत्व डॉ. भीमरॉव अंबेड़कर जी द्वारा किया गया था और उन्हीं के द्वारा इसकी रुप रेखा व प्रारुप तैयार किया गया था।

Leave a Comment