Digital India Essay In Hindi: डिजिटल इंडिया पर निबंध हिंदी में। जानिए डिजिटल इंडिया क्या है? इसका उद्देश्य, महत्त्व 2023

Advertisements

(Digital India Essay in Hindi, डिजिटल इंडिया इन हिंदी, Digital India Par Nibandh, Essay of Digital India in Hindi, Digital India Essay UPSC, डिजिटल इंडिया मिशन क्या है, डिजिटल भारत क्या है?) Essay on digital India In Hindi

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram group Join Now

आज इस लेख के जरिए हम आपके लिए डिजिटल इंडिया पर निबंध Digital India Essay In Hindi लेकर आए हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डिजिटल इंडिया एक ऐसी पहल है जिसे भारत सरकार द्वारा सन 2015 में शुरू किया गया था। इस स्क्रीन की शुरुआत के बाद भारत में बड़े पैमाने पर डिजिटलीकरण हुआ।

डिजिटल इंडिया की पहल का सबसे प्रमुख उद्देश्य भारत सरकार की सरकारी सेवाओं को भारत की आम जनता से डिजिटली जोड़ना है। इस योजना के अंतर्गत भारत के सरकारी विभागों की सारी जानकारियां एवं सेवाएं इलेक्ट्रॉनिक रूप से आम जनता के साथ जोडी जा रही हैं। आज के दौर में भारत बड़ी तेजी के साथ डिजिटल इंडिया बन रहा है।

Advertisements

बढ़ती दुनिया के डिजिटलाइजेशन को देखते हुए भारत सरकार ने इस महत्वपूर्ण पहल शुरू की ताकि भारत भी डिजिटल भारत बन सके। इसी डिजिटल भारत का सपना देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल इंडिया मिशन की शुरुआत की।

Join Our WhatsApp Group hindikhojijankari

इस पहल की शुरुआत के लगभग 7 सालों बाद ही भारत ने डिजिटल तकनीकी की दुनिया में नया कीर्तिमान स्थापित कर लिया है।

भारत की यह महत्वकांक्षी पहल देश के लिए एक मिसाल है। डिजिटल इंडिया को लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं में अक्सर सवाल पूछे जाते हैं। केवल इतना ही नहीं निबंध लेखन प्रतियोगिताओं में भी डिजिटल इंडिया पर निबंध लिखने के लिए दिए जाते हैं। चलिए आज इस लेख के जरिए हम आपको विस्तार से डिजिटल इंडिया पर निबंध के विषय में बताते हैं।

डिजिटल इंडिया पर निबंध (Essay On Digital India In Hindi) –

प्रस्तावना – आज का युग तकनीकी युग है हर छोटे-बड़े कार्य आजकल टेक्नोलॉजी, AI आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीनों व सॉफ्टवेयर के माध्यम से किए जा रहे हैं।  इन तकनीकों के प्रयोग से कार्य पहले के मुकाबले काफी सरल और कम समय में होने लगे हैं, इसलिए हर चीज में डिजिटलाइजेशन की जरूरत महसूस होने लगी है।

डिजिटलीकरण Digitialisation इस सदी का सबसे क्रांतिकारी आविष्कार रहा है। इसने दुनियां के काम करने, संचार करने और लेन-देन करने के तरीके को बदल दिया है।

डिजिटलीकरण ने हमारे जीवन को काफी आसान और अधिक कुशल बना दिया है। इसने हमें सूचनाओं तक अधिक तेजी से और अधिक सटीकता से पहुंचने, डेटा को अधिक तेजी से संसाधित करने और दूसरों के साथ अधिक आसानी से सहयोग करने में सक्षम बनाया है।

डिजिटलीकरण ने हमें दुनियांभर के लोगों से जुड़ने, विचार साझा करने और नए अवसर पैदा करने में भी सक्षम बनाया है। भारत डिजिटल दुनिया से काफी दूर था यहां लोग टेक्नोलॉजी पर इतना भरोसा नहीं करते थे।

इसे ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने एक महत्वकांक्षी योजना डिजिटल भारत का शुभारंभ किया जिसका मकसद भारत के लोगों को इंटरनेट से जोड़ना नई-नई तकनीकों के बारे में जानकारी देना जिससे उन्हें नई जानकारियां प्राप्त हो देश विदेशों में प्रयोग होने वाली तकनीकों की जानकारी मिल सकें और वह अपना कार्य कम समय में और तीव्र गति से कर पाए।

डिजिटल इंडिया विषय पर महत्वपूर्ण तथ्य (Important Points, Digital India Essay in Hindi)

विषय (Subject)डिजिटल इंडिया पर निबंध
लॉन्च कब हुआ (Launch Date)01 जुलाई 2015
किसने लॉन्च किया (Launched by)प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 
सिद्धांत (Principal)Power to Empower
प्रमुख व्यक्ति (Key Person)रविशंकर प्रसाद, एसएस अहलूवालिया
लक्ष्य (Target)भारत के दूरदराज के क्षेत्रों में डिजिटलाइजेशन 
मंत्रालय (Ministry)इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, वित्त मंत्रालय 
वेबसाइट (Website)digitalindia.gov.in
डिजिटल इंडिया योजनाएं (Digital India scheme)भारतनेट, मेक इन इंडिया, इन्डस्ट्रियल कॉरिडोर्स , स्टार्टअप इंडिया और स्टैंडअप इंडिया, भारतमाला, सागरमाला (1)
डिजिटल इंडिया पर निबंध | Essay-on-Digital-india-in-hindi

डिजिटल इंडिया की शुरुआत, डिजिटल भारत क्या है? (Digital India Essay in Hindi)

डिजिटल भारत योजना को हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 1 जुलाई 2015 में इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम, दिल्ली में लॉन्च किया गया था।

इसे देश के विभिन्न शीर्ष उद्योगपतियों साइरस मिस्त्री (चेयरमैन टाटा ग्रुप), आरआईएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी, अजीम प्रेमजी( विप्रो चेयरमैन), की उपस्थिति में लॉन्च किया गया।

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram group Join Now

यह भारत सरकार द्वारा की गई एक बहुत ही अच्छी पहल है जिसका मकसद भारत को टेक्नोलॉजी की दुनिया में अग्रणी बनाना सरकारी विभागों को देश की जनता से जोड़ना कागजी कार्यों को डिजिटल रूप प्रदान करना तथा दूर दराज गांवों में हाई स्पीड इंटरनेट की सुविधाएं प्रदान करना है ।

Join Our WhatsApp Group hindikhojijankari

पहले के समय में जहां लोगों को अपने पैसे निकालने के लिए ट्रेन की टिकट बुक करने के लिए लंबी-लंबी लाइनों में लगना पड़ता था अब डिजिटलाइजेशन के कारण व्यक्ति घर बैठे बैठे अपने खाते से दूसरे व्यक्ति के खाते में नेट बैंकिंग या यूपीआई द्वारा पैसे ट्रांसफर कर सकता है वह घर बैठे बैठे ही अपने स्मार्टफोन से 10 मिनट के भीतर ही अपना ट्रेन या फ्लाइट का टिकट बुक कर सकता है, इससे उन्हें लंबी लाइनों में लगने से छुटकारा मिलता है साथ ही व्यक्ति का समय और आने जाने में होने वाला खर्च भी बचता है।

सरकारी नौकरी व विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी करने वाले अभ्यर्थी आज अपने फोन पर ही कहां से किस जॉब के लिए कितनी वैकेंसी निकली है या देख सकते हैं घर बैठे ही वह उस नौकरी के लिए अपना आवेदन दे सकते है , इंटरनेट की गांव में पहुंच के कारण विद्यार्थियों के लिए भी अब शिक्षा काफी आसान हो गई है वह किसी शहर में जाकर महंगी किराए देने की बजाय अब घर बैठे बैठे ही ऑनलाइन कोर्सेज, ऑनलाइन डिग्री ले सकते हैं।

इस योजना को 2019 तक कार्यान्वित करने का लक्ष्य रखा गया था इसमें टू वे प्लेटफार्म बनाने की योजना थी जिससे जनता और सरकार दोनों को फायदा मिल सके। देश में बेहतर विकास और वृद्धि के लिए भारत सरकार द्वारा चलाया जा रहा यह एक बहुत ही प्रभावशाली अभियान है।

इस अभियान के माध्यम से देश को सशक्त बनाया जा रहा है जिससे आने वाले समय में हर जानकारी, रिकॉर्ड  डिजिटल रूप से इंटरनेट पर अपलोड की जा सके और उसे आसानी से कुछ ही समय में प्राप्त किया जा सकें। इस प्रोजेक्ट को पूरा करने  में मुख्य भूमिका संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की है।

प्रौद्योगिकी कर्मचारी भारत को एक सशक्त देश बनाने के लिए दिन रात लगे हुए हैं, डिजिटल इंडिया होने से कागजों, फाइलों में रिकॉर्ड लिखने और रखने का समय भी बचेगा साथ ही उनके सर्वर पर अपलोड होने के कारण कहीं खो जाने या किसी दुर्घटना में नष्ट हो जाने का खतरा नहीं होगा और कार्यालयों में लोगों की लंबी कतारों  में भी कमी होगी।

डिजिटल इंडिया का उद्देश्य –

डिजिटल भारत इंडिया योजना का मुख्य उद्देश्य भारत के लोगों को इंटरनेट से जोड़ना वह उन्हें ऑनलाइन सेवा प्रदान करना है जिससे देश का आर्थिक विकास हो सके इसी को ध्यान में रखते हुए भारत के हर कार्यालय को डिजिटल बनाया जा रहा है जहां  लिखित पेपर वर्क को हटाकर उन्हें कंप्यूटर में अपलोड किया जाता है।

इस योजना के माध्यम से भारत के गांव से लेकर शहरों तक हाई स्पीड इंटरनेट की सुविधा प्रदान की जाएगी जिससे लोग डिजिटल ई कनेक्ट हो सकें वह घर बैठे बैठे सारी ऑनलाइन सुविधाओं का लाभ ले सकें आज देश के विभिन्न कई कार्यालयों में डिजिटल माध्यम से कार्य हो रहा है।

इस योजना के तहत सरकारी सेवाओं को डिजिटल बनाने से लेकर ई-बैंकिंग, ई-शिक्षा और ई-स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में भी प्रगति हो रही है। यह भारत के नागरिकों को तकनीकी सुविधाओं का लाभ उठाने का मौका प्रदान करता है और उन्हें एक स्वच्छ, व्यवस्थित और आसानी से पहुंचने वाला प्रशासनिक प्रणाली भी प्रदान करता है।

सरकार ने डिजिटल इंडिया के माध्यम से कई सारे महत्वपूर्ण कार्य किए हैं जैसे हर उम्र के लोगों का आधार कार्ड बनवाना, उस आधार कार्ड से उनके बैंक खाते मोबाइल नंबर पैन कार्ड जीवन बीमा जैसी चीजों को लिंक करना ताकि सिर्फ एक कार्ड से हमें उस व्यक्ति की पहचान मालूम हो जाए और वह उससे कई सारी सुविधाओं का लाभ भी ले सकता है।

डिजिटल इंडिया का लक्ष्य करीब 3 लाख पंचायतों व 7 लाख गांव को ब्रॉडबैंड कनेक्शन से जोड़ना है, भारत सरकार ने 2017 तक इस लक्ष्य प्राप्ति की योजना बनाई थी जिससे आज के समय में 5 लाख गांव इस सेवा का लाभ उठा रहे हैं , सरकार का मुख्य उद्देश्य उनके द्वारा दी जाने वाली सुविधाएं व योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाना है तथा उनके द्वारा ऑनलाइन आवेदन स्वीकार करना है।

डिजिटल इंडिया अभियान के कुल 9 स्तंभ है।

1.ब्रॉडबैंड हाईवे
2.मोबाइल कनेक्टिविटी के लिए सार्वभौमिक पहुँच
3.पब्लिक इंटरनेट एक्सेस कार्यक्रम
4.ई-गवर्नेंस – प्रौद्योगिकी के माध्यम से सरकार में सुधार
5.ई-क्रांति – सेवाओं की इलेक्ट्रानिक डिलीवरी
6.सभी के लिए सूचना
7.इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण
8.नौकरियों के लिए आईटी
9.अर्ली हार्वेस्ट कार्यक्रम

डिजिटल इंडिया की सेवाएं (Digital India Services In Hindi) –

डिजिटल व्यवस्था की कई सारी सेवाएं देश में उपलब्ध है , लोगों के पास कई सारे पहचान पत्र होते हैं जिनमें से कुछ पहचान पत्र को  कई जगहों पर उन्हें प्राथमिकता नहीं दी जाती, इसे ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने आधार को हर जगह प्राथमिकता दी है आज आपके आधार से आपका बैंक अकाउंट पैन कार्ड मोबाइल नंबर लिंक किया जा रहा है।

आप अपने आधार कार्ड से घर बैठे सिम खरीद सकते हैं, किसी दस्तावेज में पहचान पत्र की जगह आधार कार्ड दे सकते हैं, इसका उपयोग आप जीवन बीमा राशन कार्ड गैस कनेक्शन और सरकार की अन्य सुविधाओं के लाभ हेतु भी उपयोग कर सकते हैं, पैन कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ा जा रहा है जिससे कोई टैक्स की चोरी या घोटाला न कर सके और लोग घर बैठे बैठे अपने आयकर का भुगतान कर सकें।

अब बैंकों में व अन्य कई जगहों पर एटीएम की सुविधा प्रदान की गई है जहां से आप कम समय में कैश निकाल सकते हैं, आप जन सेवा केंद्र पर जाकर अपने आधार के माध्यम से भी पैसे निकाल सकते हैं, सरकार अब डिजिटल करेंसी ला रही है जिससे पेमेंट ऑनलाइन भी की जा सकेगी और फिलहाल यूपीआई के माध्यम से किसी को पैसा भेजना और मंगाना भी काफी आसान हो गया है।

डिजिटल सुविधाओं के कारण आज हम घर बैठे डॉक्टर से मिलने के लिए अपॉइंटमेंट ले सकते हैं बच्चों की फीस जमा करना हो या किसी कॉलेज में एडमिशन के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना हो खून की जांच की रिपोर्ट देखनी हो या इकॉमर्स साइट्स द्वारा ऑनलाइन खरीदारी करनी हो।

डिजिटलाइजेशन के दौर ने लोगों के लिए नए रोजगार के अवसर भी प्रदान किए हैं जैसे वेब डिजाइनिंग, डेवलपर, डिजिटल मार्केटिंग, डाटा एनालिस्ट साथ ही कई सारी सरकारी सुविधाएं जैसे ऑनलाइन प्रमाण पत्र बनवाना आवेदन करना या उनमें किसी त्रुटि का सुधार करना, ऑनलाइन छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करना जैसी सुविधाएं आसानी से उपलब्ध हो गई है।

डिजिटल इंडिया के नुकसान

जिस तरह डिजिटल इंडिया होने से कई सारे लाभ हैं उसी प्रकार इसके कुछ नुकसान भी हैं गरीब व कम पढ़े लिखे लोगों को कोई भी आसानी से बेवकूफ बना सकता है।

उनके पास संसाधन का अभाव है जिस वजह से उन्हें यह तकनीक समझने और प्रयोग करने की जानकारी होने में समय लग सकता है, डिजिटलाइजेशन के दौर में चोरों ने भी लोगों को लूटने के लिए नए-नए तरीके अपनाने शुरू कर दिए हैं अब कई सारे ऑनलाइन धोखाधड़ी हैकिंग बैंक खातों से पैसे उड़ाना पर्सनल जानकारी का लीक होना जैसे मामले सामने आ सकते हैं।

कई बार लोग अपनी जानकारी गलत जगह पर देकर नुकसान का सामना करते हैं अगर आपको सही जानकारी ना हो तो आप डिजिटल व्यवस्था उपयोग नहीं कर सकते और आप उसका लाभ नहीं उठा सकते।

उपसंहार

डिजिटल इंडिया के माध्यम से भारत एक बेहतर भविष्य की ओर अग्रसर है। तकनीकी उन्नति और डिजिटलीकरण से, देश को ग्लोबल मानकों में एक उच्च स्तर पर पहचान मिल रही है। इससे समय की बचत होती है, दस्तावेज़ों के प्रिंट की जरूरत नहीं पड़ती, और सेवाएं लोगों तक आसानी से पहुंचती हैं।

इस योजना ने विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर प्रदान किए हैं। डिजिटल इंडिया के तहत बनी विशाल डिजिटल प्लेटफ़ॉर्में लोगों को अपने उत्पादों और सेवाओं को व्यापार करने के लिए विश्वसनीय तरीके से उपलब्ध कराती हैं।

डिजिटल इंडिया के अंतर्गत भारतीय युवा अधिक तकनीकी ज्ञान और कौशल प्राप्त कर रहे हैं, जो उन्हें विभिन्न विभागों में रोजगार के अवसरों को ढूंढने में मदद करता है। इससे देश के नवीनतम पीढ़ी के साथ-साथ अर्थव्यवस्था को भी उज्जवल भविष्य की ओर बढ़ाने में मदद मिलेगी।

तो दोस्तों आज इस लेख के जरिए हमने आपको डिजिटल इंडिया पर निबंध के विषय में बताया। उम्मीद करते हैं कि आपको Digital India Essay In Hindi का यह लेख बेहद पसंद आया होगा।

FAQ

डिजिटल इंडिया की शुरुआत कब हुई?

1 जुलाई 2015 दिनांक, माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने लॉन्च किया था।

डिजिटल इंडिया ने नागरिकों की कैसे मदद की है

डिजिटल इंडिया प्रोग्राम के तहत शहरों की दूरी, सरकार तथा नागरिकों की बीच की दूरी को कम किया है सभी सूचनाओं को डिजिटल इंडिया के तहत पहुंचाया गया है। सभी सेवाओं को सहीं जरुरतमंद नागरिकों को उसका लाभ पहुंचाना है।

डिजिटल इंडिया अभियान के कुल स्तंभ कितने हैं?

कुल 9 स्तंभ हैं। ब्रॉडबैंड हाईवे, मोबाइल कनेक्टिविटी तक सार्वभौमिक पहुँच, पब्लिक इंटरनेट एक्सेस, ई-गवर्नेंस , ई-क्रांति, सभी के लिए सूचना, इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण, नौकरियों के लिए आईटी-अर्ली, हार्वेस्ट कार्यक्रम।

Leave a Comment