Advertisements

Holi 2023: होलिका दहन कब है? होलिका का समय 2023, शुभ मुहूर्त 6 या 7 मार्च? | Subh Muhurat Holika Dahan 2023 Date in Hindi

होलिका दहन का समय क्या है? होलिका दहन कब है? शुभ मुहूर्त 6 या 7 मार्च? (holika dahan kab ha subh muhurat 2023 date time in hindi)

Holika Dahan 2023: अगर आप भी कन्फ्यूज हैं कि 6 या 7 मार्च होलिका दहन कब है? तो समस्या की कोई बात नहीं।

Advertisements

क्योंकि आज इस लेख में हम आपको होलिका दहन 2023 का समय, तिथि और शुभ मुहूर्त (Holika Dahan 2023 Date In Hindi) के बारे में बताने वाले हैं।

भारत में हर साल फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन होली का त्यौहार मनाया जाता है। होली का त्यौहार दो दिनों तक चलता है। रंगो की होली के एक दिन पहले ही होलिका दहन का त्यौहार भी पड़ता है, जिस दिन होली जलाई जाती है।

इस बार पूर्णिमा की तिथि दो दिन तक पड़ रही है, इसलिए ज्यादातर लोग होली और होलिका दहन दोनों की तिथियों को लेकर कंफ्यूज हैं। कोई कह रहा है, होलिका दहन 6 मार्च को होना चाहिए तो कोई इसकी तिथि 7 मार्च बता रहा है।

हालांकि होली के त्यौहार का तो तय है कि यह उदया तिथि में 8 मार्च को भारत में मनाई जाएगी लेकिन लोग होलिका दहन को ले कर अब भी कन्फ्यूज हैं।

ऐसे में होलिका दहन 2023 का समय तिथि शुभ मुहूर्त (Holika Dahan Date 2023) से जुड़े कंफ्यूजन को दूर करने के लिए हम यह लेख लेकर आए।

>>> अपने दोस्तो व सगे सम्बधियों को भेंजे होली की शुभकामना संदेश हिंदी में <<<
होलिका दहन कब है | Holika-Dahan-kab-hai-subh-muhurat-date

होलिका दहन कब है? 2023

होली के एक दिन पहले होलिका दहन का त्यौहार मनाया जाता है। इसी दिन अपने वरदान के दुरुपयोग के कारण हिरण्यकश्यप की बहन होलिका जलकर राख हो गई थी और भगवान विष्णु ने प्रहलाद की रक्षा की थी।

इसीलिए होलिका दहन को अच्छाई पर बुराई की जीत के उपलक्ष में मनाया जाता है। इस दिन जगह-जगह होलीयां इकट्ठा कर के जलाई जाती हैं।

इस बार होली का त्यौहार 8 मार्च 2023 को पड़ रहा है। ऐसे में होलिका दहन 7 मार्च 2023 को मनाया जाएगा। पूर्णिमा तिथि की रात्रि को ही होलिका दहन किया जाता है।

हालांकि इस बार पूर्णिमा की तिथि 6 मार्च और 7 मार्च दोनों दिन पड़ रही है इसीलिए ज्यादातर लोग होलिका दहन 2023 की तिथि को लेकर कंफ्यूज हैं। लेकिन उदया तिथि में पर्व की शुभ मान्यता के कारण इसे 7 मार्च 2023 को ही मनाया जाएगा।

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram group Join Now

होलिका दहन का समय 2023, शुभ मुहूर्त–

इस बार फाल्गुन मास पूर्णिमा 2023 की तिथि 6 तथा 7 मार्च दोनों दिन पड़ रही है।

हालांकि इस बार 6 मार्च के दिन भद्रा काल भी लग रहा है। 6 मार्च 2023 को भद्रा काल की शुरुआत शाम 4 बज कर 48 मिनट पर शुरू होगी और अगले दिन 7 मार्च को सुबह 5 बज कर 14 मिनट पर समाप्त हो जाएगी।

हिंदू धर्म की मान्यतानुसार भद्रा काल में किसी भी त्यौहार को मनाना अशुभ माना जाता है। ऐसे में 7 मार्च को भद्रा काल की समाप्ति के बाद होलिका दहन किया जा सकता है।

इसीलिए 7 मार्च 2023 के दिन होलिका दहन किया जाएगा। कुछ ज्योतिष आचार्यों के मुताबिक 7 मार्च 2023 को शाम 6 बज कर 24 मिनट से लेकर रात 8 बज कर 51 मिनट तक होलिका दहन का शुभ मुहूर्त है।

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram group Join Now

ऐसे में 7 मार्च 2023  को इस शुभ घड़ी में होलिका दहन किया जा सकता है।

होलिका दहन और होली के त्यौहार पर सभी को होली पर कोट्स और कविता के जरिए शुभकामनाएं भेज सकते हैं।

आज इस लेख के ज़रिए हमने आपको होलिका दहन कब है? होलिका का समय 2023, शुभ मुहूर्त 6 या 7 मार्च? (Holika Dahan 2023 Date In Hindi) आदि के बारे में कई जानकारियां प्रदान की। उम्मीद करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा।

HomeGoogle News

FAQ

होलिका दहन 2023 कब है?

होली फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाई जाती है। इस बार यह 6 व 7 मार्च दोनो दिन है लेकिन 6 मार्च को भद्राकाल होने के कारण होलिका दहन 7 मार्च के दिन किया जाएगा।

होलिका दहन का सही समय क्या है?

7 मार्च 2023 शाम 6 बज कर 24 मिनट से रात 8 बजकर 51 मिनट तक होलिका दहन का शुभ मुहूर्त है।

होली पर 6 मार्च को भद्राकाल कब से कब तक है?

6 मार्च को शाम 4 बज कर 48 मिनट पर शुरू होगा और यह 7 मार्च को सुबह 5 बज कर 14 मिनट पर समाप्त हो जाएगी। भद्राकाल में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता।

इन्हें भी पढ़ें

1.अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2023 पर शायरी, कोट्स और कविताएं
2.क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस, थीम 2023
2.दिवाली पर कोट्स, अनमोल विचार, शायरी, कविताएं
3.राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है?
4.राष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध व भाषण
5.26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर शायरी के अंदाज में भेंजे शुभकामना संदेश
6.विजयदशमी दशहरा पर निबंध, भाषण एवं कविता

Leave a Comment