Advertisements

कौन है विकास दिव्यकीर्ति, जीवन परिचय | IAS Dr. Vikas Divyakirti Drishti biography in Hindi

दृष्टि कोचिंग डॉ. विकास दिव्यकीर्ति, शिक्षा, जाति, धर्म, जन्मस्थान, आईएएस, नेटवर्थ, यूपीएससी में रैंक (controversy of Vikas Divyakirti Drishti biography in Hindi, IAS UPSC rank, family, Net worth)

डॉ विकास दिव्यकीर्ति यूपीएससी अभ्यार्थियों के बीच एक जाने-माने प्रसिद्ध शिक्षक हैं। इस समय यह दृष्टि IAS नाम का शिक्षण चलाते हैं, जहांय पर भारतीय लोक सेवा आयोग की परीक्षा की तैयारी के लिए छात्र-छात्राएं भारी से भारी संख्या में आते हैं। विकास दिव्यकीर्ति संस्था चलाने से पहले एक आईएएस ऑफिसर भी थे।

विकास दिव्यकीर्ति ने कई अलग-अलग विषयों पर बहुत से लोगों को यूट्यूब के जरिए भी शिक्षा दी है। इस समय इनका यूट्यूब चैनल छात्रों के लिए लोक सेवा आयोग परीक्षा की तैयारी के लिए पहली पसंद बन चुकी है। विकास दिव्यकीर्ति की संस्था UPSC के लिए भारत की सबसे मशहूर शिक्षण संस्था है ।

Advertisements

इस समय सोशल मीडिया पर विकास दिव्यकीर्ति के एक बयान पर काफी बवाल मचा हुआ है और इसके साथ ही ट्वीटर पर कई दिनों से कोचिंग इंस्टिट्यूट दृष्टि आईएएस सोशल मीडिया पर दर्शको द्वारा बैन लगाने की मांग की जा रही है।

विकास दिव्यकीर्ति पर माता सीता का अपमान करने का गंभीर आरोप लगाया जा रहा है, दरसल इससे जुड़ी इनकी एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। तो आइए आज इस लेख के जरिए हम विकास दिव्यकीर्ति के जीवन परिचय (Vikas Divyakirti Drishti IAS biography in Hindi) के बारे में जानते हैं। इसके अलावा हम आपको इस आर्टिकल में यह भी बताएंगे कि आखिर वीडियो में ऐसा क्या है जिसको लेकर ट्विटर पर #BanDrishtiIAS ट्रेंड कर रहा है।

इन्हें भी जानें- कौन है भारत के नए चीफ जस्टिस – डी.वाई. चंद्रचूड़ का जीवन परिचय

Vikas Divyakirti Drishti biography in Hindi

विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय (Dr. Vikas Divyakirti Drishti biography in Hindi)

विकास दिव्यकीर्ति का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ है, विकास दिव्यकीर्ति का जन्म 26 दिसंबर 1973 हरियाणा में हुआ था। विकास दिव्यकीर्ति के माता-पिता हिंदी साहित्य के प्रोफ़ेसर थे। और इनका विवाह 1998 में तरुण वर्मा एक अध्यापिका के साथ हुआ। इन के पुत्र का नाम सात्विक दिव्यकीर्ति है।

दृष्टि कोचिंग संस्था में विकास दिव्यकीर्ति की पत्नी संस्थापक के रूप में कार्य करती हैं।

विकास दिव्यकीर्ति ने यूपीएससी की परीक्षा में आईएएस को पद हासिल किया। और कुछ समय बाद इस पद को छोड़कर इन्होंने अपनी एक कोचिंग संस्था की शुरुआत की जो आज भारत के छात्रों के लिए एक प्रतिष्ठित कोचिंग संस्था बन चुका है यह भारत के कोने कोने में प्रसिद्ध है।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति की शिक्षा –

बचपन से ही डॉ विकास दिव्यकीर्ति पढ़ने में बहुत अच्छे थे उनका हिंदी साहित्य से काफी गहरा लगाव था। जिससे उन्होंने अपना प्रारंभिक शिक्षा पूर्ण होते ही सबसे पहले हिंदी साहित्य से पोस्ट ग्रेजुएशन की शिक्षा प्राप्त की। इसके बाद दिल्ली विश्वविद्यालय से बीए की डिग्री इतिहास विषय से हासिल की। एमफिल की पढ़ाई फिलॉसफी में हासिल की।

इसके बाद हिंदी साहित्य में पीएचडी के साथ अपनी शिक्षा पूरी की। और साथ ही एलएलबी और नेट की परीक्षा समाजशास्त्र से उत्तीर्ण की। डॉ विकास दिव्यकीर्ति का पढ़ाई में शुरू से ही अच्छा प्रदर्शन रहा है। इन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास करने पर आईएएस का पद प्राप्त किया।

डॉक्टर दिव्यकीर्ति की उपलब्धियां–

डॉक्टर दिव्यकीर्ति ने शिक्षा के क्षेत्र में अपना एक अलग ही पहचान बनाया। इनको आईएएस का हर छात्र अपने गुरु के रूप में मानता है इनकी कुछ निम्नलिखित उपलब्धियां इस प्रकार है –

  • हिंदी साहित्य में पीएचडी की डिग्री डॉक्टर दिव्यकीर्ति ने हासिल की है।
  • इसके साथ ही उन्होंने और कई सारी डिग्रियां हासिल की है जैसे- B.A,M. A., MPhil, LLB, Phd इत्यादि।
  • समाजशास्त्र से नेट की परीक्षा भी दिव्यकीर्ति ने उत्तरी लिखी है। और उसके बाद दृष्टि कोचिंग संस्था भी चलाई।
  • यूजीसी जेआरएफ की परीक्षा प्रोफेसर की नौकरी प्राप्त करने के लिए पास किया था।
  • लोक सेवा आयोग की परीक्षा दिव्यकीर्ति ने 1996 में पास करने के बाद आईएएस पद को प्राप्त किया था।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति की यूपीएससी में रैंक (Dr. Vikas Divyakirti IAS Rank)

Dr. Vikas Divyakirti ने यूपीएससी की पहली एटेम्पट में सफलता हासिल की थी। इन्होंने अपनी पहली एटेम्पट में 384 रैंक हासिल करते हुए मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स की पद प्राप्त की थी। पहली एटेम्पट में इतनी अच्छी रैंक लाने के बाद भी वह अपनी पोस्ट से संतुष्ट नहीं थे इसलिए इसके बाद उन्होंने तीन और एटेम्पट लगाए। इनका चौथा एटेम्पट ही आखिरी एटेम्पट था जिसके बाद उन्होंने अपना टीचिंग करियर शुरू किया मुखर्जी नगर में। ऐसा कहा जाता है कि पहली एटेम्पट के बाद इनको अपनी हर एटेम्पट में सफलता तो नहीं मिल पाई जिसकी वजह से इनका मनोबल गिरता चला गया लेकिन इन्होंने ठान रखी थी कि ये यूपीएससी एस्पायरेंट्स के लिए कुछ ना कुछ जरूर करेंगे जिसकी वजह से इन्होंने यूपीएससी एस्पायरेंट्स को पढ़ाना चालू किया। आगे जाकर उनको इसमें काफी सफलता भी मिली।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति के सफलता की कहानी (Dr. Vikas Divyakirti Success Story)

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जन्म हरियाणा में हुआ था‌ और यहीं से उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा प्राप्त की थी। सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल से अपनी 12वीं करने के बाद उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से B.A. करने की ठानी हिस्ट्री मेंI इसके बाद उन्होंने M.A. और PH.D भी किया। उन्हें फिल्म मेकिंग का भी बहुत शौक था इसलिए आगे जाकर उन्होंने फिल्म मेकिंग की भी डिग्री प्राप्त की। डॉ. विकास दिव्यकीर्ति को शुरू से पढ़ने लिखने का बहुत शौक था और वह बचपन से ही बहुत मेहनत किया करते थे। बहुत छोटी उम्र से ही वह बहुत लगन और एकाग्रता से पढ़ते थे।

यही वजह है कि उनके परिवार को उन पर पूरा भरोसा था। जब वह पहली बार यूपीएससीकी परीक्षा में बैठे तब उन्होंने पहले एटेम्पट में परीक्षा क्लियर कर दिखाई। जिसके बाद उनको मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स की पोस्ट नियुक्त की गई थी लेकिन वह इसमें संतुष्ट नहीं थे जिसकी वजह से 1 साल बाद ही उन्होंने रिजाइन लेटर देकर यह जॉब छोड़ने का निर्णय लिया। उस वक्त किसी को भी इनके इस निर्णय पर विश्वास नहीं हुआ और डॉ. दिव्यकीर्ति का परिवार भी इस निर्णय से खुश नहीं था लेकिन 1999 में दृष्टि आईएएस कोचिंग क्लासेस का निर्माण करके उन्होंने अपने प्रियजनों को विश्वास दिला दिया कि उनका वह निर्णय गलत नहीं था I

दृष्टि आईएएस कोचिंग क्लासेस की शुरुआत दिल्ली में की गई थी। इसका मुख्य उद्देश्य सफल यूपीएससी एस्परेंस को तराशना था। ऐसा कहा जाता है कि डॉ. विकास दिव्यकीर्तिके पढ़ाने का अंदाज सबसे बेहतरीन है जिसकी वजह से यूट्यूब और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इनके कई फॉलोअर्स है जो कि आज भी बढ़ते ही जा रहे हैं।

जब 2017 में इन्होंने अपना पहला यूट्यूब चैनल लांच किया था दृष्टि आईएएस के नाम से तो उस चैनल पर देखते ही देखते हजारों सब्सक्राइबर्स और लाखों लाइक्स आ गए थे। अगर आज के समय में उस चैनल के सब्सक्राइबर्स कि तुलना की जाए तो वह 6 मिलियन से भी अधिक होंगे। डॉ. विकास दिव्यकीर्ति कि इतनी बड़ी फैन फॉलोइंग का सबसे मुख्य राज्य है कि वह अपने स्टडी मटेरियल को हमेशा हिंदी में ट्रांसलेट करके पढ़ाते हैं ताकि हर एक विद्यार्थी उनकी बातों को अच्छे से समझ पाए और किसी को भी पढ़ते वक्त किसी भी तरह की दिक्कत ना आए।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति सबसे ज्यादा फेमस अपने यूट्यूब चैनल से ही हुए। जब उन्होंने यूपीएससी एस्परेंस के लिए यूट्यूब चैनल शुरू किया तो उनके कांटेक्ट को बहुत ज्यादा पसंद किया गया और शेयर भी किया गया जिसके वजह से उनकी रिच कम समय में बहुत अधिक बढ़ गई।

उनका स्टडी मटेरियल सबसे बेस्ट माना जाता है। जिसे पढ़ना और समझना काफी आसान है। डॉ. विकास दिव्यकीर्ति नें जो कुछ भी यूपीएससी एस्पायरेंट्स के लिए किया है वह कभी कोई नहीं कर पाएगा और हम सब उनके इस नेक काम को हमेशा याद रखेंगे।

दृष्टि कोचिंग संस्था की स्थापना–

सन 1996 में डॉक्टर दिव्यकीर्ति आईएएस के पद को प्राप्त करके कुछ महीनों बाद इन्होंने इस पद को छोड़ दिया। क्योंकि इनका  हिंदी साहित्य से बहुत गहरा लगाव था, जिस कारण इन्होंने इस पद को छोड़कर कुछ दिन बेरोजगार रहने के बाद इन्होंने छात्रों को आईएएस परीक्षा के लिए मार्गदर्शन देना शुरू किया।

लोगों को इनके द्वारा बताए गए तरीके और भाषा शैली अधिक पसंद आने लगी और लोग अधिक से अधिक आकर्षित होने लगे। जिससे कम समय में अधिक से अधिक छात्र-छात्राओं की संख्या बढ़ती चली गई। तब इन्होंने दृष्टि कोचिंग संस्था की शुरुआत की।

इसके बाद डॉ दिव्यकीर्ति ने 2017 में अपना एक यूट्यूब चैनल शुरू किया जिस पर इन्होंने यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी से जुड़े सवाल या आवश्यक जानकारी बच्चों को देना शुरू किया। जिससे कम ही समय में यह चैनल भारत में अधिक प्रचलित हुआ। वर्तमान समय में डॉक्टर दिव्यकीर्ति की संस्था भारत की सबसे बड़ी यूपीएससी शिक्षण संस्था मानी जाती है।

उम्मीद करते हैं कि विकास दिव्यकीर्ति के जीवन परिचय और उनसे जुड़े विवाद के ऊपर लिखा गया यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति की नेटवर्थ (Dr. Vikas Divyakirti Net worth)

जैसा कि हमने अभी बताया डॉक्टर विकास दिव्यकीर्ति दृष्टि कोचिंग में पढ़ाने के साथ-साथ दृष्टि आईएएस नाम की यूट्यूब चैनल के भी मालिक है। कुछ रिपोर्ट के मुताबिक डॉ विकास दिव्यकीर्ति कि नेटवर्क एक मिलियन डालर है यानी कि भारतीय रुपए में उनकी कुल नेटवर्क तकरीबन 8 करोड रुपए है।

Homepage Follow us on Google News
इन्हें भी पढ़े :  
1.  महान साहित्यकार रविन्द्रनाथ टैगोर का जीवन परिचय (Rabindranath Tagore Biography)
2. भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी (Freedom Fighters of India)
3. कारगिल के शेरशाह कैप्टन विक्रम बत्रा का जीवन परिचय

FAQ

विकास दिव्यकीर्ति की पत्नी का नाम क्या है?

विकास दिव्यकीर्ति की पत्नी का नाम तरुणा वर्मा है।

दृष्टि आईएएस के संस्थापक और मालिक कौन है?

विकास दिव्यकीर्ति

विकास दिव्यकीर्ति की यूपीएससी रैंक कितनी थी?

यूपीएससी Rank 384

Leave a Comment